मुसलमान है खतरे में, हमें अयोध्या से पलायन करना पड़ेगा- बाबरी मस्जिद के पक्षकार इक़बाल अंसारी

0
140

उत्तर प्रदेश: अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद की 25 नवंबर को होने वाली धर्म सभा को लेकर बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने बुधवार को अपनी सुरक्षा को लेकर बात कही। उनका कहना है की फिर अयोध्या में जिस तरह से भीड़ इकठ्ठा की जा रही है। उससे मुसलमानों की सुरक्षा को लेकर खतरा हो सकता है।

न्यूज़ एजेंसी ANI से बातचीत में इकबाल अंसारी ने कहा की, मेरे सुरक्षा के लिए 2 सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं। कई लोग मुझसे मिलने आते हैं, कई अन्य मेरे पास आते हैं, यह मेरे लिए खतरा है। उन्होंने सरकार से मांग की है की अगर उनकी सुरक्षा नहीं बढ़ाई गयी तो 25 नवंबर से पहले हमें अयोध्या से पलायन करना पड़ेगा।

गौरतलब है कि अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद की 25 नवंबर को होने वाली धर्म सभा को कामयाब बनाने के लिए हिंदूवादी संगठनों ने अपनी पूरी ताकत लगा दी है। उम्मीद जताई जा रही है कि 25 नवंबर को बड़ी भीड़ इकट्ठा हो सकती है। इसी को लेकर इकबाल अंसारी ने चिंता जाहिर करते हुए सरकार से सुरक्षा की मांग की है। उन्होंने कहा कि अगर सुरक्षा न मिली तो वह अयोध्या से पलायन कर जाएंगे।

इसके अलावा अयोध्या में बाबरी मस्जिद के पक्षकार हाजी महबूब और मोहम्मद उमर की श्रीश्री रविशंकर के प्रतिनिधि गौतम विज से राम मंदिर-बाबरी मस्जिद मामले में समझौते को लेकर हुई मुलाकात को लेकर इकबाल अंसारी ने साफ़ कहा की श्रीश्री रविशंकर और हाजी महबूब से उनका कोई लेना-देना नहीं है और न ही उन्होंने राम मंदिर-बाबरी मस्जिद मामले में इन लोगों से कोई मुलाकात ही की है।

इकबाल अंसारी ने ये जरूर कहा की सुनने में आया है कि रविशंकर के दूत आए थे और हाजी महबूब के यहां गए थे। लेकिन उन्होंने कहा की इससे हमारा कोई लेना देना नहीं है। न तो वे बाबरी मस्जिद के पक्षकार हैं, न ही हमारी कोई उनसे बात हुई है। मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है हमने महंत धर्मदास को लेकर एक मुहिम भी चलाई है, उसकी एक शुरुआत हुई है।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

loading...