ना तो समय पर एम्बुलेंस मिली ना ही इलाज, गरीब पिता की गोद में ही बेटी ने तोड़ दिया दम, सामने आई डॉक्टर की लापरवाही

समय पर एम्बुलेंस और इलाज न मिलने से एक मासूम की जिला अस्पताल में मौत हो गई। मानवीय संवेदनाएं उस वक्त हाशिये पर नजर आईं जब मृत बालिका को गोद मे उठाकर पैदल ही पिता को 30 किमी दूर अपने घर के लिए जाना पड़ा। आपको बता दें कि, रामपुर बाघेलान थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम गौहारी निवासी राम बहोर चौधरी की 2 साल की मासूम बेटी की मौत शनिवार को स्वास्थ्य अमले की लापरवाही और संवेदनहीनता की वजह से हो गई।

राम बहोर ने कहा कि, उसकी बेटी की तबीयत खराब थी, उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही। उसके फेफड़े सांस लेने में आवाज कर रहे थे। लॉकडाउन के कारण कोई वाहन नहीं मिल रहा था, इसलिए सुबह 6 बजे उसने 108 एम्बुलेंस बुलाने के लिए फोन किया। बार-बार फोन करता रहा और हर बार उसे यही जवाब मिलता रहा कि एम्बुलेंस 10 मिनट में पहुंच रही है। जब एम्बुलेंस पहुंची तब तक दोपहर के 12 बज चुके थे और बेटी की हालत और बिगड़ चुकी थी। किसी तरह जब बेटी को लेकर वह जिला अस्पताल पहुंचा तो वहां देखने के लिए डॉक्टर नहीं मिले। अस्पताल में भटकता रहा, इस बीच बेटी ने दम तोड़ दिया।

और फिर एक मासूम की जान बस इसलिए चली गई क्युकी उसे समय पर एम्बुलेंस नहीं मिली तथा समय पर डॉक्टर नहीं मिला। लेकिन बेटी की मौत के बाद भी राम बहोर के दु:ख का अंत नहीं हुआ। अस्पताल से बेटी का शव गोद में उठाए राम बहोर को पैदल ही अपने गांव गौहारी निकलना पड़ा। न तो अस्पताल में किसी ने उसके जाने का इंतजाम किया और न ही उसके पास कोई और विकल्प नहीं था। रोता बिलखता, भूखा प्यासा पिता अपनी मासूम लाड़ली का शव गोद मे उठाए शहर की सड़कों पर चलता रहा।

घटना की सुचना जब जब युकां लोस अध्यक्ष राजदीप सिंह को मिली तो वे रामबहोर के पास पहुंचे। उसे ढाढ़स बंधाने के साथ ही उसके लिए एम्बुलेंस की व्यवस्था कराई और उसे घर भेजा। उन्होंने कलेक्टर से मांग की है कि इस घटना की जांच की जाए। लापरवाही के लिए जो भी चिकित्सकीय अमला दोषी हो उस पर कार्रवाई हो।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …