गालीबाज थानाअध्यक्ष की खबर छापना पत्रकार को पड़ा भारी, अब फ़ोन पर मिल रही जान से मारने की धमकी

पूर्व में प्रतापगढ़ जिले के जेठवारा थाना अध्यक्ष का एक ऑडियो वायरल हुआ था। जिसमें थाना अध्यक्ष महोदय एक पीड़ित को भद्दी भद्दी गालियां दे रहे थे और जातिसूचक गालियां भी दे रहे थे। इस खबर को रीडर मैसेंजर अखबार के विशेष संवाददाता आशीष कुमार मिश्रा ने प्रमुखता से छापा था।

जिसके बाद इस्पेक्टर साहब को निलंबित भी किया गया था। अब लगातार आशीष कुमार मिश्रा को जान से मारने की धमकी मिल रही है। आज चार अलग-अलग नंबरों से आशीष कुमार मिश्रा को जान से मारने की धमकी मिल चुकी है जिससे पत्रकार आशीष कुमार मिश्रा का पूरा परिवार दहशत में है।

धमकी देने वाला एक बाहुबली नेता का नाम भी ले रहा है। और गोली मार देने की भी धमकी दे रहा है। लगातार योगी सरकार में पत्रकारों का उत्पीड़न जारी है। लखनऊ की कैंट सर्किल एसीपी बीनू सिंह की घोर लापरवाही सामने आई है।

पीड़ित को जब जान से मारने की धमकी मिली तो पीड़ित ने कई बार एसीपी कैंट बीनू सिंह को फोन लगाया, पर एसीपी कैंट पूरे मामले को गंभीरता से लेने के बजाय टालती हुई नजर आई। पीड़ित का फोन ही काट दिया एसीपी कैंट बीनू सिंह ने लगातार एसीपी कैंट की लापरवाही पहले भी उजागर होती रही है।

इन्हीं के सर्किल का सबसे बड़ा हॉटस्पॉट भी बना है सदर कैंट का इलाका। पीड़ित पत्रकार आशीष कुमार मिश्रा ने 112 पर काल की तत्काल डायल 112 की गाड़ी मौके पर पहुंची मामले की गंभीरता को देखते हुए डायल 112 ने आला अधिकारियों से संपर्क करने की बात कही।

क्योंकि धमकी देने वाला एक बाहुबली नेता का नाम ले रहा है और वॉइस रिकॉर्डिंग में गोली मार देने की धमकी दे रहा है जिसके चलते पत्रकार आशीष कुमार मिश्रा का पूरा परिवार दहशत में है और कोई बड़ी घटना ना हो जाए इसको लेकर एसीपी कैंट लापरवाह बनी हुई।

एक पुलिस वाले की खबर छपना भारी पड़ गया पत्रकार आशीष कुमार मिश्रा को और बाहुबलियों की तरफ से जान से मारने की धमकी मिलने लगी पुलिस के आला अधिकारियों को पूरे मामले की गंभीरता को देखते हुए तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए। (सदफ हसन की रिपोर्ट)

Check Also

कोविड-19 टीका लगवाना स्वैच्छिक और व्यक्तिगत निर्णय, लोगों का भरोसा धीरे-धीरे बढ़ेगा : सत्येंद्र जैन

कोविड-19 टीकाकरण अभियान के दो दिनों में स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगने की रफ्तार धीमी …