(PC_amar ujala)

बॉर्डर पर रोका तो जुस्साए मजदूरों ने पुलिस पर किया पथराव, थानाध्यक्ष व सिपाही घायल, बल प्रयोग में कई मजदूर घायल

कोरोना वायरस की वजह से देश में किए गए लॉकडाउन ने अब प्रवासी मजदूरों का जीना मुश्किल कर दिया है जिसको लेकर अब वह पैदल ही अपने घरों की तरफ आने के लिए मजबूर हो चुके हैं। ताजा मामला झांसी जालौन सीमा स्थित पीरौना बॉर्डर पर देखने को मिला जहां महाराष्ट्र गुजरात से सैकड़ों प्रवासी मजदूर अपने घर जाने के लिए पैदल ही आ रहे थे लेकिन पुलिस ने उन्हें बॉर्डर पर ही रोक दिया।

कई घंटे धूप में बैठने के बाद प्रवासी मजदूर गुस्से में पुलिसकर्मियों पर पथराव कर दिया। इस घटना में एक थानाध्यक्ष तथा एक सिपाही घायल हो गया बाद में पुलिस ने बल प्रयोग कर मजदूरों को खदेड़ दिया।

हालांकि इस पथराव में पुलिस के अलावा कई मजदूर भी घायल हुए हैं बता दें कि जालौन में लगातार कोरोना के मामले सामने आने के बाद जिला प्रशासन किसी को भी बाहर से आने की इजाजत नहीं दे रहा है। इसके चलते रविवार को झांसी की तरफ से सैकड़ों मजदूरों को बॉर्डर पर ही रोक लिया गया था नोकझोंक के बाद मजदूरों ने पुलिस पर पथराव कर दिया था।

मीडिया में छपी खबर के अनुसार, बॉर्डर पर कड़ी धूप में घंटों बैठने के बाद प्रवासी मजदूरों के लिए प्रशासन की तरफ से कोई व्यवस्था नहीं होने के बाद गुस्साए मजदूरों ने नारेबाजी करते हुए बॉर्डर पर तैनात पुलिसकर्मियों पर पथराव कर दिया। इसमें कैलिया थाना अध्यक्ष योगेश पटेल व कांस्टेबल नीतू सिंह जख्मी हो गई थी।

घटना की जानकारी के बाद बॉर्डर पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया तथा मजदूरों को समझाने का प्रयास किया लेकिन वह घर जाने की जींद पर अड़े रहे काफी समझाइश के बाद मजदूर फिर से पुलिस पर पथराव करने लगे। इसके बाद पुलिस को मजबूरन हल्का बल प्रयोग करना पड़ा इसमें कई मजदूर भी चोटिल हो गए बाद में प्रशासन ने व्यवस्था कर मजदूरों को वहां से रवाना किया।

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …