निर्भया केस, मायूस मां ने रोते हुए कहा, अधूरी रह गई अंतिम इच्छा, नहीं खा पाया…

कोर्ट के फैसले से नाराज़ निर्भया के दोषी विनय की मां ने बताया कि, अगर मुझे मौका मिलता तो मैं अपने बेटे को उसका मनपसंद भोजन पूरी, सब्जी और कचौड़ी खिलाती। विनय की मां ने कहा कि, कई बार बेटे को पूरी, सब्जी और कचौड़ी खिलाने की कोशिश की, पर जेल प्रशासन ने कभी अनुमति नहीं दी।

आपको बता दें कि निर्भया के दोषी विनय, पवन और मुकेश के परिजन आरके पुरम स्थित रविदास कैंप में रहता है। विनय की मां ने बताया कि मैं चाहती थी कि कोई मेरे बेटे की फांसी रोक दे और उसे एक मौका और दें, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उनकी सारी उम्मीदें समाप्त हो गई हैं और धैर्य भी टूट गया। उन्होंने कहा कि सब ईश्वर की मर्जी थी। अगर उनके बेटे को बचना होता तो वह जरूर बचा लेता।

दिल्ली16 दिसंबर 2012 को एक युवती को सामूहिक दुष्कर्म के बाद आरोपियों ने चलती बस से फेंक दिया था। जिससे युवती की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। इस मामले के चारों दोषियों को कल कल शुक्रवार की सुबह साढ़े पांच बजे फांसी दे दी गई। दोषी मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) ने फांसी से बचने के लिए अपने सभी कानूनी विकल्पों का पूरा इस्तेमाल किया और बृहस्पतिवार की रात तक इस मामले की सुनवाई चली।

यानि फांसी की सजा पाए निर्भया के गुनहगार आखिरकार सात साल, तीन महीने और तीन दिन बाद अपने अंजाम पर पहुंच गए। निर्भया के चारों दोषियों को शुक्रवार तड़के 5:30 बजे तिहाड़ जेल में फांसी पर लटकाया गया।

Check Also

नोटबंदी के बाद लॉकडाउन PM मोदी की दूसरी बड़ी गलती, खुला पत्र लिखकर कमल हासन ने कह दी बड़ी बात !

कोरोना से निपटने के लिए देशभर में किये गए 21 दिन के लॉकडाउन को लेकर …