अब मॉनिटरिंग सरकार की नहीं बल्कि मीडिया की होती है : पुण्य प्रसून बाजपेयी

0
59
PTI10_28_2017_000023B

दिल्ली में सीबीआई हेडक्वार्टर के ठीक बगल में सूचना भवन स्थित सूचना भवन की 10वीं मंज़िल पर देश भर के न्यूज़ चैनलों पर सरकारी निगरानी रखी जाती है। हर दिन 24 घंटे सभी न्यूज़ चैनलों पर निगरानी रखने के लिए 200 लोगों की टीम लगी रहती है। वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी बता रहे हैं कि कैसे न्यूज़ चैनलों पर शिकंजा कसने के लिए सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के भीतर बनाई गई 200 लोगों की ‘गुप्त फ़ौज’ कैसे काम करती है।

प्रसून बाजपेयी ने बताया की कैसे 4 साल में यह पहली बार ऐसा हुआ है कि मॉनिटरिंग करने वालों के मोबाइल अब बाहर ही जमा करवा लिए जा रहे हैं। पहली बार ADG ने मीटिंग लेकर मॉनिटरिंग करने वालों को ही वार्निंग दी कि अब कोई सूचना बाहर जानी नहीं चाहिए जैसे ‘मास्टरस्ट्रोक’ की मॉनिटरिंग की जानकारी बाहर चली गई।

मॉनिटरिंग करने वालों को साफ़ लफ्जो में कहा गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को कौन सा न्यूज़ चैनल कितना दिखाता है, उसकी पूरी रिपोर्ट हर दिन तैयार होनी चाहिए। कुछ फ़िक्र अपनी छवि को लेकर सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ को भी है तो वह भी अपनी रिपोर्ट तैयार कराते हैं कि कौन सा चैनल अपने यहाँ उन्हें कितनी जगह देता है।

सबका निचोड़ यही कि कौन सा न्यूज़ चैनल क्या दिखा रहा हैं, क्या बता रहा हैं, और किस दिन किस मुद्दे पर डिबेट कराते हैं, उस चर्चा में कौन शामिल होता है, कौन क्या कहता है, किसके बोल सरकार के पक्ष होते हैं, किसने सरकार के विरोध में बोला इन सब पर नज़र रहती है।

नोएडा से चलने वाले यूपी के एक चैनल के संपादक के पास फोन आता है। पुराना संबध बताते हुए मीडिया पर बात हुई। उसके बाद दोस्ती भरे अंदाज़ में धमकाया गया कुछ इस तरह,

हम तो मॉनिटरिंग करते हैं न. रिपोर्ट देख रहे थे आपके चैनल का नंबर कहीं जाके बीच में है.
आपका चैनल कम दिखाता है,
किसे कम दिखाता है,
अपने प्रधानमंत्री जी को,
नहीं ऐसा तो नहीं है हम तो ख़ूब दिखाते हैं,
जब आप कह रहे है तो और दिखाइये,
जैसा आप ठीक समझें,
और फ़ोन कट जाता है।

तो इसे सुझाव समझा जाये या धमकी कैसे चैनलों के बीच रेस लगती रहती है कौन ज़्यादा से ज़्यादा प्रधानमंत्री मोदी को दिखाता होगा, और कितनों को फोन दोस्ती में धमकाने के लिए आ जाता होगा।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here