Imran Khan, chairman of Pakistan Tehreek-e-Insaf (PTI) political party, speaks during a news conference in Islamabad August 5, 2014. REUTERS/Caren Firouz

विदेशी लक्जरी गाड़ियों और स्मार्टफोन्स के आयात पर रोक लगाने की तैयारी कर रहा पाकिस्तान

कर्ज के निचे दबा पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) से मिलने वाले बेलआउट पैकेज से अब बचने के लिए अब विदेशी लक्ज़री गाड़ियों, स्मार्टफोन के आयात पर बैन लगा सकता है।

पाकिस्तानी अखबार द न्यूज में छपी खबर के अनुसार, पिछले सप्ताह वित्त मंत्री असद उमर की अध्यक्षता में हुई EAC की बैठक में यह आईडिया सामने आये है। पाकिस्तान की एक विश्वविद्यालय में प्रोफेसर और EAC के सदस्य अशफाक हसन खान ने समाचार एजेंसी रायटर्स को बताया की, ‘मीटिंग में कई अहम् उपायों पर गुफ्तगू हुई जिनसे आयात पर अंकुश लगाने पर मदद मिल सकती है। किसी भी सदस्य ने IMF के पास जाने का समर्थन नहीं किया। हमें कुछ न कुछ करना होगा, हम कुछ कर सकते यह नहीं चलेगा।’

अशफाक हसन ने कहा कि, विदेशी गाड़ियों, स्मार्टफोन, पनीर और कुछ फलों के आयात पर एक साल तक के लिए बैन लगाने पर बात हुई है। अनुमान है कि इससे करीब 4 से 5 अरब डॉलर बच सकते हैं। इसी बीच निर्यात को 2 अरब डॉलर और बढ़ाने पर विचार है। आपको बताते कि, इमरान खान ने पाकिस्तान कि सत्ता संभालने के बाद सरकारी खर्च में कटौती को लेकर कई अहम् फैसले किए हैं। पाकिस्‍तान के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान कर्ज लेने के बजाय अपने खर्चों में कटौती पर जोर दे रहे हैं।

अशफाक ने कहा कि, ‘आप देख रहे हैं कि इस पाकिस्‍तान में बाहर देशो से कितनी चीज आ रही है। बाजार बाहरी चीजों से भरा पड़ा है। इस देश में डॉलर नहीं है, क्या पाकिस्‍तान इसके लायक है जो यह चीज़ आयात कर रहा है पिछली सरकार ने चीज़ और लक्जरी कारों सहित 240 इम्पोर्टेड चीजों पर 50 % तक टैरिफ बढ़ाया, और दर्जनों नए आयात पर ड्यूटी लगाई लेकिन कोई भी सीधा आयात प्रतिबंध जारी नहीं किया गया था।’

Check Also

पड़ोसियों की लगातार मदद कर रहा भारत, श्रीलंका को वैक्सीन की 5 लाख खुराकें मिलीं

कोरोना काल में सबका मददगार बना भारत लगातार पड़ोसी और मित्र देशों को वैक्सीन उपलब्ध …