प्लाज्मा थेरेपी कोरोना में कर सकती है कमाल, 4 मरीजों पर काफी अच्छे रिजल्ट: केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मीडिया से बताया की कोरोना वायरस से लड़ी जा रही जंग में प्लाज्मा थेरेपी कारगर साबित हो रही है। मीडिया से बात करते हुए अरविंद केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली के चार संक्रमित मरीजों पर प्लाज्मा थेरेपी का प्रयोग किया गया था जिसके रिजल्ट बहुत ही अच्छे आए हैं। वहीं मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल केंद्र सरकार से बाकी कोरोना संक्रमित मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी देने के लिए परमिशन मांगे की बात कही है।

उन्हें बताया कि प्लाज्मा थेरेपी के रिजल्ट कमाल के हैं लेकिन इसे कोरोना का इलाज ना माना जाए। इसके अलावा केजरीवाल और उनके साथ मीडिया से बातचीत कर रहे डॉक्टर ने कहा कि कोरोना से ठीक हुए लोगों को अब अन्य मरीजों को ठीक करने के लिए प्लाज्मा देना चाहिए।

केंद्र सरकार की मंजूरी के बाद दिल्ली सरकार ने लोक नायक अस्पताल के चार संक्रमित मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी दी थी। मीडिया कॉन्फ्रेंस में केजरीवाल ने बताया कि अच्छी खबर यह है कि चारों संक्रमित मरीजों में पॉजिटिव रिजल्ट देखने को मिले। मुख्यमंत्री ने बताया कि यह वह लोग थे जिन्हें वेंटिलेटर की जरूरत पड़ने वाली थी लेकिन प्लाज्मा थेरेपी के बाद उन्हें आईसीयू से साधारण वॉर्ड में शिफ्ट किया जाने वाला है।

प्लाज्मा थेरेपी को दूसरे शब्दों में एंटीबॉडी थेरेपी भी कहा जाता है यह किसी खास वायरस या बैक्टीरिया के खिलाफ शरीर में लड़ने के लिए शरीर में बनती है। जो भी कोरोना मरीज अभी तक ठीक हुए हैं एंटीबॉडी के बदौलत ही ठीक हुआ है वहीं कई ऐसे मरीज होते हैं जिनके शरीर में एंटीबॉडी तुरंत ही बनता है उनके शरीर में वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी बनने में देरी की वजह से उनकी मौत भी हो जाती है या वह अत्यधिक सीरियस हो जाते हैं जो मरीज इस कोरोना से ठीक हो चुके हैं उनके शरीर में एंटीबॉडी बना होता है वह चाहे तो एंटीबॉडी दूसरे को डोनेट कर जान बचा सकते है।

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …