राफ़ेल की दलाली खुलने के डर से PM मोदी ‘आलोक वर्मा’ के साथ कोई भी हथकंडा अपना सकते हैं- संजय सिंह

0
89

नई दिल्ली: केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) के डायरेक्टर आलोक वर्मा के जनपथ इलाके में घर के बाहर 25 अक्टूबर की सुबह को चार संदिग्ध को सुरक्षाकर्मीयो ने पकड़ा है। टीवी रिपोर्ट्स की माने तो ये चारो डायरेक्टर के घर में घुसने की कोशिश कर रहे थे। तभी सुरक्षाकर्मीयो ने उन्हें पकड़ लिया। इन सभी पर आलोक वर्मा के घर के बाहर जासूसी करने का आरोप लगा है।

सुचना के बाद डायरेक्टर आलोक वर्मा के घर पहुंची पुलिस ने उन चारों को अपने कब्जे में ले लिया। पकडे गए लोगो की पहचान विनीत कुमार, अजय कुमार, प्रशांत कुमार और धीरज कुमार के रूप में हुई है। गौर करने वाली बात ये है की चारों संदिग्धों का टाइटल कुमार है। उन्होंने खुद को इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) का अधिकारी बताया है। इन सभी ने अपनी पहचान के तौर पर सीजीएचएस और आधार कार्ड दिए हैं। इन चारो पर डायरेक्टर आलोक वर्मा के घर में जासूसी करने का आरोप लगा है।

एक अफसर ने नाम न बताने की शर्त पर बताया की संदिग्ध के पास से जो आईडी सबूत के तौर पर दिखाए गए हैं उससे यह साफ़ ज़ाहिर होता है कि वे सभी इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) के अधिकारी हैं। हम आईडी की सत्यता की जांच कर रहे हैं। उन्होंने आगे बताया की ये चारों 2 निजी गाड़ियों में आए थे। सुबह से ही वे आलोक वर्मा के आवास के बाहर काफी टाइम से इधर-उधर घूम रहे थे। संदिग्ध व्यवहार के चलते उन सभी को सुरक्षाकर्मीयो ने उन्हें पकड़ लिया। उन से पहले डायरेक्टर आलोक वर्मा के सुरक्षाकर्मीयो ने पूछताछ की और उसके बाद उन सभी को पुलिस के हवाले कर दिया गया।

वहीं डायरेक्टर आलोक वर्मा के अचानक छुट्टी पर भेजे जाने पर आप पार्टी सांसद संजय सिंह ने भी इस पर तीखी प्रतिक्रिया ब्यक्त की है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “मोदी जी 56 इंच के सीने वाले कायर प्रधानमंत्री हैं जो पीछे से वार करते हैं, विरोधियों को मुक़दमा, छापा, जेल से डराते हैं अगर कोई फिर भी न माने तो मैं ये नही कह रहा हूँ कि उसका हाल जज लोया जैसा होगा।”

उन्होंने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा की, “मोदी जी राफ़ेल की दलाली खुलने के डर से घबराये हुए हैं, कोई भी प्रधान सेवक कोई भी हथकंडा अपना सकते हैं।”

ग़ौरतलब है कि मोदी सरकार ने जब मंगलवार देर रात CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा को अचानक छुट्टी पर भेज दिया। तब उनके पास 7 संवेदनशील मामलों की जांच से जुड़ी फाइलें थीं। जिसमे से एक राफेल डील से जुड़ी फाइल थी। राहुल ने आरोप लगाया था कि आलोक वर्मा राफेल घोटाले से जुड़े कागजात जमा कर रहे थे इसलिए मोदी सरकार ने उन्हें जबरदस्ती छुट्टी पर भेज दिया।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

Loading...