‘लोकसभा में CAB पास होने पर प्रसन्न हुए PM मोदी, धर्म के आधार पर ना भेदभाव हो रहा है और ना आगे होगा- अमित शाह’

नई दिल्ली: सोमवार को लंबी बहस के बाद आखिरकार लोकसभा से नागरिकता संशोधन विधेयक पास हो गया। वही प्रधानमंत्री मोदी ने सभी सांसदों को शुक्रिया कहा। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार, “प्रसन्नता है कि लोकसभा ने एक समृद्ध और व्यापक बहस के बाद नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2019 पारित किया है। मैं विभिन्न सांसदों और पार्टियों को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने विधेयक का समर्थन किया। यह विधेयक भारत के सदियों पुराने लोकाचार और मानवीय मूल्यों में विश्वास के अनुरूप है।”

वही नागरिकता संशोधन विधेयक पास होने के बाद पूरे देश में साइंटिस्टों, स्कॉलर्स और कई राजनीतिक पार्टियों ने मोर्चा खोल दिया है। वहीं नागरिकता संशोधन विधेयक के पास होने के बाद अमेरिकी आयोग ने चिंता जाहिर करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने एक गलत रास्ते पर खतरनाक मोड़ लिया है।

नागरिकता संशोधन विधेयक के अनुसार, धार्मिक प्रताड़ना की वजह से पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से 31 दिसंबर 2014 तक भारत आए हिंदू, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के लोगों को अवैध शरणार्थी के तौर पर नहीं माना जायेगा। यह सभी लोग भारत में नागरिकता लेने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

लोकसभा में सोमवार देर रात तक चली लंबी बहस के बाद लगभग 11बजकर 45 मिनट पर वोटिंग प्रक्रिया पूरी हो गई। इसमें नागरिकता संशोधन बिल के पक्ष में कुल 313 वोट पड़े जबकि विपक्ष में केवल 80 वोट डले। लोकसभा में बिल को मंजूरी मिलने के बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि आज मंगलवार को केंद्र सरकार राज्यसभा में भी संशोधन बिल पास करा सकती है।

वहीं देश के गृह मंत्री अमित शाह ने लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल पर तर्क देते हुए कहा कि भारत में धर्म के नाम पर भेदभाव हो रहा है ऐसा करना गलत है क्योंकि भारत में 1951 में 84 परसेंट हिंदू थे जो 2011 में घटकर केवल 79 फ़ीसदी रह गए। वही मुसलमानों पर भी आंकड़ा पेश करते हुए कहा कि 1951 में मुसलमान 9.8 परसेंट थे जो 2011 में बढ़कर 14.8 परसेंट हो गए। उन्होंने साफ कहा कि धर्म के आधार पर ना भेदभाव हो रहा है और ना आगे होगा।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …