पुलिस कांस्टेबल ने शादी के खर्च की आधी रकम की कोरोना संकट में मदद के लिए दान, कहा, पहले देश बाद में शादी ..

देश में कोरोना संकट को लेकर लगे लॉकडाउन में दो पुलिसकर्मियों ने एक अनोखी मिसाल पेश की है। इन पुलिसकर्मियों ने शादी के 10 दिन पहले हालात को देखते हुए सात फेरे न लेने का फैसला किया है। और अपनी शादी में होने वाले खर्च में से 50 फीसदी हिस्सा सीएम रिलीफ फंड में दान कर दिया। दोनों ने कसम खाई है कि कोरोना वायरस जब तक खत्म नहीं हो जाता तब तक शादी नहीं करेंगे।

आपको बता दें कि अमित पुत्र राजबीर प्रजापति की शादी नेहा पुत्री नीरज कुमार से तय हुई थी। दोनों उत्तर प्रदेश पुलिस में कांस्टेबल के पद पर तैनात हैं। दोनों की शादी 25 अप्रैल को होनी थी। लेकिन, कोरोना महामारी के चलते शादी टाल दी है। इन दोनों पुलिसकर्मियों ने मिलकर जो भी पैसा अपनी शादी में खर्च करने के लिए जोड़े थे, अब उस पैसे का 50 प्रतिशत कोरोना महामारी से लड़ाई में दान में दे दिया है। दोनों युवा सिपाहियों के जज्बे को सीओ सिटी राजकुमार ने भी तहे दिल से सराहा है।

अमित कुमार और नेहा जिला बागपत के निवासी हैं। दोनों परिवारों में शादी की तैयारियां शुरू भी हो गई थीं, लेकिन अचानक लॉकडाउन की वजह शादी नहीं हो पाई। दोनों की शादी के निमंत्रण कार्ड भी छप गए थे। गेस्ट हाउस और हलवाई भी बुक था।

पुलिस कांस्टेबल अमित कुमार ने कहा कि, हमने अपनी शादी की तारीख को आगे बढ़ा दिया है। क्योंकि, पहले हमारी ड्यूटी है और उसके बाद हमारे लिए शादी है। जब तक कोरोना वायरस खत्म नहीं हो जाता तब तक शादी नहीं करेंगे। पहले हमारे लिए देश की जनता और फिर शादी। हम दोनों ही पुलिस में कांस्टेबल के पद पर तैनात हैं तो हम दोनों ने यह फैसला लिया कि शादी को आगे बढ़ा दिया जाए।

Check Also

महाराष्ट्र में खाकी शर्मसार? पुलिस अधिकारी पर महिला पुलिसकर्मी से रेप करने का आरोप

महाराष्ट्र में महिला पुलिस अधिकारी द्वारा शादी का वादा कर बलात्कार करने का आरोप लगाए …