कोरोना के खौफ से भी नहीं डर रही प्रदर्शनकारी महिलाएं, शाहीन बाग की तर्ज पर धरना दे रही महिलाएं पुलिस से भिड़ी, 3 महिलाएं बेहोश..

राजधानी दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर नागरिकता कानून सीएए के खिलाफ बीते 17 जनवरी से घंटाघर परिसर में महिलाएं प्रदर्शन कर रही हैं। आज सुबह महिलाओं के इस धरने को खत्म करने के लिए पुलिस पहुंची थी। लेकिन, महिलाएं वहां से हटने को राज़ी नहीं हुई तो पुलिस ने बल प्रयोग करते हुए टेंट को उजाड़ दिया। इस दौरान पुलिसकर्मियों व प्रदर्शनकारियों के बीच धक्का मुक्की हो गई। जिसमे तीन महिलाएं बेहोश हो गईं। फिलहाल प्रदर्शनकारी महिलाएं हटने को तैयार नहीं हैं। इलाके में माहौल तनावपूर्ण बताया जा रहा है।

इन दिनों दुनियाभर में कोरोना वायरस का भयंकर आतंक मचा हुआ है, जिसे महामारी घोषित कर दिया गया है। इसे लेकर योगी सरकार भी गंभीर हो गई है। कोरोना वायरस के संक्रमण फैलने के डर से सीएम ने सभी प्रकार धरना प्रदर्शनों पर प्रतिबंध लगा रखा है। बावजूद इसके घंटाघर के पास प्रदर्शन चल रहा है। जिसे हटाने के लिए आज पुलिस बल गई थी।

प्रदर्शनकारी महिलाओं ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि अभद्रता करते हुए सिपाहियों ने मंच को उजाड़ दिया। महिलाओं को पीटा गया। इससे तीन महिलाएं बेहोश हुई हैं। बेहोश हुई महिलाओं को नजदीकी अस्पताल ले जाया गया है। फिर प्रदर्शनकारी महिलाओं ने जमकर नारेबाजी की।

Check Also

कोरोना वायरस: कूड़ा लेने पहुंचे सफाईकर्मी को नोटों की माला पहनाकर दिया सम्मान, साथ में राशन भी दिया

देश में इस समय कोरोना वायरस का कहर फैला हुआ है, 21 दिनों के लॉकडाउन …