मस्जिद में मुस्लिम महिलाओं को प्रवेश दिलाने के लिए हिंदूवादी संगठन की हाईकोर्ट में जनहित याचिका

0
224
Loading...

केरल: एक हिंदूवादी संगठन ने केरल हाईकोर्ट में मस्जिदों में महिलाओ को नमाज पढ़ने के लिए जनहित याचिका दायर कर रिक्वेस्ट किया है की कोर्ट केंद्र सरकार को महिलाओं को मस्जिदों में नमाज पढ़ने के लिए आदेश जारी करने का निर्देश दे। यह जनहित याचिका एक हिंदूवादी संगठन के केरल इकाई के अध्यक्ष ने दायर की है।

पीटीआई की खबर के अनुसार, केरल हाईकोर्ट में जनहित याचिका अखिल भारत हिंदू महासभा के केरल इकाई के अध्यक्ष स्वामी देथात्रेय साई स्वरुप नाथ ने दायर की है। याचिकाकर्ता ने सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश के लिए सुप्रीम कोर्ट ने आदेश का हवाला देते हुए कहा की इस फैसले के निर्देश और समय को देखते हुए मुस्लिम महिलाओं को भी नमाज के लिए मस्जिदों में प्रवेश मिलना चाहिए।

स्वामी देथात्रेय साई स्वरुप नाथ ने अपनी याचिका में यह भी कहा है की मुस्लिम महिलाओं को मस्जिदों के मुख्य इबादत ऑडिटोरियम और नमाज के दौरान प्रवेश न देकर उनके साथ भेदभाव होता है। आपको बतादे की स्वामी देथात्रेय साई स्वरुप नाथ अखिल भारत हिंदू महासभा की केरल इकाई के अध्यक्ष हैं।

इसके अलावा अब सुन्नी मस्जिदों में प्रवेश पाने के लिए केरल स्थित मुस्लिम महिला संगठन भी सुप्रीम कोर्ट जाने के लिए तैयार है। केरल के कोझिकोड स्थित मुस्लिम महिला संगठन NISA की अध्यक्ष वीपी जुहरा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने का फैसला किया। याचिका में वीपी जुहरा देश भर में तमाम सुन्नी मस्जिदों में महिलाओं के प्रवेश की अनुमति मांगेंगी।

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले सुप्रीम कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर अपना फैसला सुनाया था। और मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को हरी झंडी दे दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में मना था की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश से रोकना संतुलितता के अधिकार और उनकी धार्मिक स्वतंत्रता के खिलाफ है।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

Loading...