80 IPS आफिसरों की रेस में आगे निकले ऋषि कुमार शुक्ला, मोदी सरकार ने बनाया CBI डायरेक्टर

0
2512

नई दिल्ली: आलोक वर्मा के मोदी सरकार द्वारा हटाए जाने के बाद सीबीआई चीफ का पद खाली था। जिसके लिए 80 IPS अफसर दावेदार माने जा रहे थे। लेकिन सारी अटकले साफ हो गई है। मोदी सरकार ने केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के अंतरिम डाइरेक्टर पद के लिए ऋषि कुमार शुक्ला को चुना है। जो अब देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई के प्रमुख रहेंगे।

इससे पहले सूत्रों के हवाले से कुछ खबर में बताया गया था की, 1983 से लेकर 1985 बैच के 80 काबिल अफसरों में पहले 30 आईपीएस अफसर चिन्हित किये गए। फिर उसमे से पाँच को चुना गया। जिसमे नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ क्रिमिनोलॉजी एंड फॉरेंसिक साइंसेज के प्रमुख जावीद अहमद (1985 UP), 1983 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारी ऋषि कुमार शुक्ला, नेशनल सिक्योरिटी गार्ड के प्रमुख सुदीप लखाटिया (1984 UP), केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) प्रमुख आरआर भटनागर (1984 UP) तथा ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट प्रमुख चीफ एपी महेश्वरी (1984 UP) के नाम शामिल थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में उच्चाधिकार समिति की बैठक में ऋषि कुमार शुक्ला को सीबीआई चीफ बनाने पर सहमति बनी। दो फरवरी को जारी इस संबंध में नोटिफिकेशन के अनुसार, “दिल्ली स्पेशल पुलिस एस्टैबलिशमेंट एक्ट, 1946 की धारा 4ए (1) के तहत गठित चयन समिति ने ऋषि कुमार शुक्ला की नाम की सिफारिश की थी। कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने इसे मंजूर कर दिया है। उनकी नियुक्ति कार्यभार संभालने के बाद से दो साल तक के लिए हुई है।”

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में उच्चाधिकार समिति ने आलोक वर्मा को सीबीआई पद से हटा दिया था। वही आलोक वर्मा का ट्रांसफर सिविल डिफेंस एंड होम गार्ड्स में अग्निशमन सेवाओं के डीजी के रूप में किया गया था। लेकिन वर्मा ने उच्चाधिकार समिति का यह प्रस्ताव मानाने से इनकार कर दिया था।

Loading...