साकेत कोर्ट ने मुजफ्फरपुर शेल्टर कांड में सुनाया फैसला, ब्रजेश ठाकुर बच्चियों के साथ यौन शोषण का दोषी करार

नई दिल्ली: सोमवार को दक्षिण दिल्ली स्थित साकेत अदालत ने बिहार के चर्चित मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में अहम फैसला सुनाते हुए NGO मालिक बृजेश ठाकुर समेत 19 लोगों को दोषी करार दिया है। बतादे कि अदालत ने यौन शोषण और सामूहिक दुष्कर्म के कई मामलों में मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर को दोषी करार दिया है।

वहीं सबूतों के अभाव में अदालत ने आरोपी मोहम्मद साहिल उर्फ विक्की को इस मामले में बरी कर दिया है। मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में बृजेश ठाकुर को पॉक्सो कानून के तहत दोषी पाया गया है। यह फैसला अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सौरभ कुलश्रेष्ठ की कोर्ट की तरफ से सुनाया गया है बतादें कि अभी मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद है।

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में सीबीआई मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर सहित 21 आरोपियों के खिलाफ पहले ही कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल कर चुकी है। अभी मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर समेत 20 आरोपी जेल में बंद है।

गौरतलब है की यह पूरा मामला तब सुर्खियों में आया जब टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस की रिपोर्ट सामने आई थी। जिसमे 34 बच्चियों के यौन शोषण की पुष्टि हुई थी। वहीं सुनवाई के दौरान पीड़ितों ने बताया कि उन्हें मारा-पीटा जाता था नशीली दवाएं दी जाती थी फिर उनका जबरन यौन शोषण किया जाता था।

अदालत में दाखिल की गई सीबीआई की तरफ से चार्जशीट में यह भी बताया गया है कि जिस आश्रय गृह में लड़कियों के साथ यौन शोषण होता रहा उसका संचालन भी बृजेश ठाकुरी करता था।

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …