‘स्टैनफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी से शाहीन बाग़ के लिए सलाम आया है- रविश कुमार’

वैसे तो गोदी मीडिया और दो लाइन लिख न सकने वाले नेता जे एन यू को भी लेक्चर देने लगे थे कि छात्रों को पढ़ना चाहिए और राजनीति नहीं करनी चाहिए। जिनकी खुद की डिग्री और पी एच डी पर कई सवाल उठते हैं।

जेएनयू को बंद करने की बात करते हैं। क्या वो स्टैनफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी को भी लेक्चर देना चाहेंगे? कि पढ़ो ? राजनीति मत करो ? या स्टैनफ़ोर्ड को बंद कर देना चाहिए?

वहाँ के भारतीय और ग़ैर भारतीय छात्रों और शिक्षकों ने शाहीन बाग़ के समर्थन में आज प्रदर्शन किया। शाहीन बाग़ को सलाम भेजा है। पोस्टर और बैनर पर लिखे नारों को ध्यान से पढ़िए। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, जामिया मिलिया और जे एन यू में हुई पुलिस की हिंसा और गुंडागर्दी की निंदा की है।

जो देख रहे थे वो अब बोल रहे हैं। जो बोल रहे थे वो अब लड़ रहे हैं। जो लड़ रहे थे वो अब शाहीन बाग़ बना रहे हैं। इन तस्वीरों को देखिए। इनमें से कोई भी पाँच सौ रुपये देकर नहीं लाया गया होगा।

शाहीन बाग़ पर इतना छोटा आरोप लगाने वालों को भी समझिए। एक महीना से ज़्यादा हो गया लेकिन खोजने पर भी कुछ नहीं मिला। स्टैनफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी दुनिया की बड़ी यूनिवर्सिटी मानी जाती है। (रविश कुमार का लेख)

Check Also

मोदी के कार्यकाल: उन्होंने ‘नौकरी, रोजी-रोटी’ छीन ली, दिया तो सिर्फ ‘हिन्दू-मुस्लिम’

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने कार्यकाल के छठवें साल पूरे होने पर कल देशवासियों के लिए …