कैमरामैन अच्युतानंद साहू की शहादत को सलाम- रविश कुमार

0
83

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में माओवादियों के हमले में दूरदर्शन के कैमरामैन अच्युतानंद साहू की मौत हो गई है। वे दिल्ली से चुनाव कवर करने गए थे। इस हमले में ज़िला पुलिस बल के दो जवानों की भी मौत हुई है। सूचना प्रसारण मंत्री ने अच्युतानंदन की पत्नी को जल्द ही दूरदर्शन में नौकरी का भरोसा दिया है और पंद्रह लाख की मदद का एलान भी किया है। दस लाख सरकार दे रही है और पाँच लाख पीआईबी के पत्रकार कल्याण कोष से। दूरदर्शन के साथी पैंतीस लाख दिए जाने की माँग कर रहे हैं। शायद सरकार मान भी ले।

दूरदर्शन परिवार इस वक़्त शोकाकुल होगा। हम उनकी वेदना के साथ हैं। हम अच्युतानंदन की मौत पर उनके परिवार के प्रति संवेदना प्रकट करते हैं। प्रेस क्लब ऑफ़ इंडिया ने संवेदना प्रकट की है और हिंसा की निंदा की है। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने भी निंदा की है ओर कायराना हरकत बताया है। निंदा की है।

सीआरपीएफ़ के जवानों को बीमा का पचीस लाख मिलता है। 15 लाख विशेष अनुग्रह राशि और नक्सली हिंसा में मारे जाने पर चार लाख की राशि मिलती है। परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जाती है।अन्य मदों को मिलाकर करीब साठ लाख की मदद मिलती है। कर्मचारी और अधिकारी दोनों को। इस हिंसा में मारे गए कैमरामैन को भी बराबर की राशि मिलनी चाहिए। वैसे मेरे हिसाब से सीआरपीएफ़ के जवानों को काफ़ी कम दिया जाता है।

हिंसा से कुछ नहीं मिलता। हिंसा व्यर्थ का प्रयोजन है। माओवाद भी एक निरर्थक प्रयोजन है। उड़ीसा के रहने वाले कैमरामैन अच्युतानंद साहू को अंतिम प्रणाम। सलाम दोस्त।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

loading...