Image Credit- ANI

अब्दुल जब्बार को पद्मश्री मिलने पर रोते हुए बोली सायरा बानो, अगर जिंदा होते तो साथ जाकर लेते पुरस्कार

भोपाल: 1984 की भोपाल गैस त्रासदी एक्टिविस्ट अब्दुल जब्बार खान को जब सरकार ने पद्मश्री देने का ऐलान किया तो तो उनकी पत्नी सायरा बानो रोने लगी। उन्होंने कहा “मैं एक ही समय में खुश हूं और साथ ही साथ हमें भी यह सम्मान मिला है।” लेकिन आज वो जिन्दा होते तो साथ में जाकर पद्मश्री पुरस्कार लेते।

अब्दुल जब्बार खान की बीवी शायरा बानो ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को बताया की “मेरे ससुराल वालों ने त्रासदी में अपनी जान गंवा दी। उसके बाद, मेरे पति ने पीड़ितों के कल्याण के लिए काम करने का फैसला किया। वह गैस के दुष्प्रभाव से भी पीड़ित थे।”

Image- ANI

अब्दुल जब्बार खुद भी गैस की चपेट में आए थे जिसकी वजह से 14 नवंबर 2019 उनका इंतकाल हो गया था। अब्दुल जब्बार के इलाज का खर्च उठाने के लिए सरकार ने हामी भरी थी।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार, अब्दुल जब्बार खान की बीवी शायरा बानो ने कहा, मैं एक ही समय में बहुत खुश और दुखी हूं। हमें यह सम्मान एक साथ मिला होता अगर वह जिन्दा होते। ” क्यूंकि 14 नवंबर, 2019 को जब्बार का इंतकाल हो गया।

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …