सिंधिया ने की कांग्रेस से बग़ावत छोड़ी पार्टी, साथ ही 20 विधायक मंत्रियों ने भी दिया इस्तीफ़ा

कांग्रेस पार्टी से सम्मान न मिलने पर नाराज़ हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पार्टी से इस्तीफ़ा दे दिया है। उसके साथ 20 विधायक और मंत्रियों ने भी मध्य प्रदेश विधानसभा के स्पीकर को अपना इस्तीफ़ा भेजा है। सिंधिया ने अपने इस्तीफ़े का पत्र ट्विटर पर जारी किया है। पत्र में 9 मार्च की तारीख़ लिखी है, जिससे साफ़ होता है कि सिंधिया ने पहले ही कांग्रेस छोड़ने का मन बना लिया था। इस बात की जोरदार चर्चा है कि सिंधिया मंगलवार को ही बीजेपी का दामन थाम सकते हैं। ख़बरें यह भी हैं कि इस बारे में ‘सबकुछ’ तय हो गया है।

सिंधिया अगर बीजेपी में शामिल होते हैं तो, बीजेपी उन्हें राज्यसभा के टिकट से नवाजेगी और केन्द्र में मंत्री पद भी दिया जायेगा। मध्य प्रदेश में उनके झंडे तले बग़ावत करने वाले कांग्रेस विधायकों को बीजेपी की अगुवाई में सरकार बनने पर उसमें एडजस्ट किये जाने का ‘आश्वासन’ भी दिया जा चुका है। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंगलवार को गृहमंत्री अमित शाह के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात भी की।

लेकिन बग़ावत करने वाले सिंधिया समर्थकों को दोबारा चुनाव लड़ना और जीतना होगा। ना जीत पाने वालों और चुनाव ना लड़ने के इच्छुक विधायकों को भी सत्ता में भागीदारी देने पर बीजेपी सहमत बतायी जा रही है। संभवतया मंगलवार देर शाम तक ही यह साफ हो जायेगा। आज शाम भोपाल में कांग्रेस विधायक दल की बैठक भी होगी। इस बैठक के दो घंटे बाद बीजेपी भी अपने विधायकों के साथ भोपाल में ही बैठक करेगी।

इस्तीफ़ा देने वालों में कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे गोविंद सिंह राजपूत, महेन्द्र सिंह सिसोदिया, तुलसी सिलावट, इमरती देवी, प्रद्युम्न सिंह तोमर और प्रभुराम चौधरी मौजूद हैं। विधायक (सभी सिंधिया के समर्थक) राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, मुन्नालाल गोयल, ओपीएस भदौरिया, रणवीर जाटव, गिर्राज दंडोतिया, कमलेश जाटव, रक्षा संतराम सरौनिया, जसवंत जाटव, सुरेश धाकड़, जजपाल सिंह जज्जी, बृजेन्द्र सिंह यादव, रघुराज सिंह कंसाना ने भी इस्तीफ़ा दे दिया है।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …