चौकाने वाला रहस्य: आखिर क्यों दाउदपुर में पटरी के पास पटक गए आठ माह का कन्या भू्रण

बेटी बचाओ बेटी बढ़ाओ का जहां नारा लगता है। वही बेटियों का बेहद पूरा हाल है। बड़ी बेटियों के साथ रेप जैसी घटनाएं होती है, और छोटी बेटियों की हत्या कर दी जाती है। आखिर कब तक इन्हे इंसाफ नहीं मिलेगा, किया बेटी होना समाज में पाप है ऐसी सोच रखने वाला ही नालायक इंसान है। एक घटना सामने आई है।

अलवर शहर के दाउदपुर इलाके से जहां बुधवार सुबह रेलवे पटरी के पास एक कन्या भ्रूण पड़ा मिला। सुचना मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंचकर भ्रूण को कब्जे में लिया जिसके बाद सामान्य अस्पताल के मुर्दाघर में रखवाया। फिर पोस्टमार्टम करा भ्रूण को दफना दिया।

घटना की जानकरी में एनईबी थानाधिकारी विनोद सामरिया ने बताया कि दाउदपुर स्थित सिंधी धर्मशाला के सामने रेलवे पटरी है तथा वहीं एक मंदिर है। अज्ञात परिजन वहां करीब आठ माह के कन्या भ्रूण को लाल कपड़े में लपेटकर फेंक गए। बुधवार सुबह पुजारी मंदिर की साफ-सफाई करने गया तो उसने कपड़े में लिपटा भ्रूण देखा। इसके बाद आसपास लोगों को बताया। मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। घटना की सूचना सुबह करीब ९.३० बजे पुलिस को दी गई।

इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची। मौका-मुआयना के बाद भ्रूण को अस्पताल पहुंचाया। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद भ्रूण को दफना दिया। पुलिस ने अज्ञात परिजनों के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। इससे पहले भी २८ दिसम्बर को जनता कॉलोनी में नाले के पास सात माह के बालक का भ्रूण पाया गया था।

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …