प्रतीकात्मक तस्वीर

लॉकडाउन में फंसे सभी लोगो के लिए चली ‘श्रमिक स्‍पेशल’ ट्रेनें, बैठक के बाद केंद्र सरकार ने दी मंजूरी

नई दिल्ली: लॉकडाउन में दूसरे राज्य में फंसे प्रवासी मजदूरों के लिए राहत भरी खबर है क्योंकि केंद्र सरकार राज्यों में फंसे लोगों के लिए 6 श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाने की परमिशन दे दी है। शुक्रवार को प्रधानमंत्री आवास पर हुई बैठक में इस बारे में फैसला लिया गया। इस मीटिंग में पीएम मोदी के अलावा गृह मंत्री अमित शाह, कैबिनेट सचिव राजीव गौबा, रेल मंत्री पीयूष गोयल, चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ जनरल बिपिन रावत और प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव पीके मिश्रा शामिल थे।

बैठक खत्म होने के बाद रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी उन्होंने ट्वीट कर लिखा की, “Lock Down के कारण विभिन्न हिस्सों में फंसे नागरिकों को रेलवे द्वारा भेजे जाने की अनुमति देने के लिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी तथा अमित शाह जी का धन्यवाद। रेलवे ‘श्रमिक स्पेशल ट्रेन’ चला कर घर से दूर हुए लोगों को उनकी मंजिल तक पहुंचाना सुनिश्चित करेगी।”

इसके अलावा मिनिस्ट्री ऑफ रेलवे की तरफ से भी ट्वीट किया गया कि “रेलवे ने प्रवासी श्रमिकों, तीर्थयात्रियों, पर्यटकों, छात्रों और अन्य व्यक्तियों को अलग-अलग स्थानों पर ले जाने के लिए अलग-अलग स्थानों पर जाने के लिए ‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेनें शुरू की हैं। दोनों संबंधित राज्य सरकार से अनुरोध पर ट्रेनों को एक जगह से दूसरे तक चलाया जाएगा।”

वहीं रेल मंत्रालय ने अपने सभी जोंस के लिए निर्देश भी जारी कर दिया है जिसमें कहा गया है कि वह राज्यों से उनकी मांग का पता कर बताएं। जरूरत पड़ी तो आज और कल में कई और स्पेशल ट्रेनें चलाई जा सकती है। उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में महाराष्ट्र से अपनी प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए परमिशन दे दी है लेकिन बिहार ने अभी तक इस बारे में कुछ जानकारी नहीं दी है।

बतादे की रेलवे ने कहा है की ट्रेनों के संचालन से जुड़ी जानकारी रेलवे की अधिकृत वेबसाइट या मीडिया के जरिए यात्रियों को दी जाएगी। ट्रेनों में टिकट की बुकिंग की अगले आदेश तक बंद किया गया है। ट्रेनों के संचालन को लेकर कोई फैसला होने पर टिकट बुकिंग शुरू की जाएगी।

Check Also

Cyclone Nisarga: मुंबई से 150 किलोमीटर दूर है ‘निसर्ग’ चक्रवाती तूफान, 120 KM घण्टे की रफ्तार पकड़ मचा सकता है तबाही

मुंबई: बुधवार 3 जून 2020 को महाराष्ट्र और गुजरात के समुद्री तट से टकराने वाले …