‘जुलाई में स्कूल-कॉलेज खुलने के संकेत, अगले सप्ताह HRD मंत्रालय जारी कर सकता है गाइडलाइन’

नई दिल्ली: कोरोना वैश्विक महामारी के बीच जुलाई महीने में स्कूल और कॉलेज खोलने पर सरकार विचार कर रही है। लेकिन इसमें प्राइमरी कक्षा तक के छात्रों को छूट दी गई है। शिक्षण संस्थान आठवीं से बारहवीं तक के छात्रों के साथ खुलेंगे।

जुलाई में स्कूल और कॉलेज को खोलने को लेकर केंद्रीय गृह मंत्रालय के निर्देशों पर एचआरडी मंत्रालय ने सेफ्टी गाइडलाइंस को तैयार कर लिया है। इनमें स्कूल कॉलेज विश्वविद्यालयों को लेकर अलग-अलग गाइडलाइन होगी। मीडिया खबरों के अनुसार, एचआरडी मिनिस्टर रमेश पोखरियाल निशंक अगले सप्ताह सेफ्टी गाइडलाइंस को जारी कर सकते हैं।

सूत्रों की माने तो कोरोना से बचाव को लेकर प्राइमरी कक्षा तक के छात्रों को फिलहाल घर से काम करने की अनुमति रहेगी। इसमें शिक्षक हर दिन अभिभावकों को प्रैक्टिकल वर्क होम के रूप में काम देंगे। वही मंत्रालय द्वारा जारी होने वाली सेफ्टी गाइडलाइंस को राज्य सरकारें अपने आधार पर कुछ बदलाव कर सकेंगी।

मीडिया में छपी खबरों के अनुसार, शिक्षण संस्थान खोलने से पहले शिक्षकों को थर्मल स्कैनर प्रयोग में लाने, छात्रों को सामाजिक दूरी के साथ रहने, बैठने, खाने आदि को सिखाने को लेकर ट्रेनिंग भी दी जाएगी।

इसके अलावा कक्षाओं के छात्र से लेकर टीचर या कर्मी हर किसी को मास्क, दस्ताने पहन कर आना अनिवार्य होगा। वही कैंटीन, कक्षा,,लाइब्रेरी, कॉरिडोर से लेकर बाथरूम के बाहर तक कोरोनावायरस गाइडलाइंस चस्पा रहेगी। सामाजिक दूरी के नियमों को देखने के लिए सीसीटीवी कैमरे से निगरानी रखी जाएगी।

एसडीएम और डीएम के संबंधित क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले संस्थानों में औचक निरीक्षण के साथ-साथ गाइडलाइंस को भी पूरी करवाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। स्कूल बस में भी एक सीट पर एक ही छात्र को बैठने की परमिशन होगी। ऑड-ईवन रोल नंबर के साथ छात्रों को बुलाने की भी योजना संभव बताई जा रही है। इसके अलावा बस, स्कूल परिसर और कक्षाओं को सेनीटाइज करना अनिवार्य होगा।

Check Also

कोरोना वैक्सीनेशन पर उठे सवालों पर अमित शाह बोले- कुछ वक्र दृष्टा लोग इसे भी वक्र दृष्टि से देख रहे हैं

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को कहा है कि दुनिया में अगर कोरोना …