बेटा को जायदाद से बेदखल कर, हाथियों के नाम की 5 करोड़ की संपत्ति

केरल में जहां गर्भवती हथिनी को पटाखों से बरा अनन्नास खिलाकर उसकी हत्या की गई। वही पटना के दानापुर के जानीपुर में रहने वाले एक व्यक्ति ने हाथियों के प्रति इंसानियत की मिसाल पेश की है। अख्तर इमाम नाम के व्यक्ति ने अपनी औलाद के बजाय 5 करोड़ की संपत्ति दोनों हाथियों के नाम पर दी।

अख्तर इमाम का कहना है कि दोनों हाथीयो ने उनकी जान बचाई थी तथा उनका बेटा हाथियों को बेचने के लिए पशु तस्करों के साथ सौदा कर बैठा था। जिसके बाद उन्होंने अपने जायदाद से अपने बेटे को बेदखल कर दिया।

अख्तर ने अपनी जायदाद में से आधा हिस्सा पत्नी को दिया है बाकी बचे आधे हिस्से की संपत्ति और खेत खलियान, बैंक बैलेंस, मकान सब हाथियों के नाम कर दिया है बकायदा अख्तर रजिस्ट्री ऑफिस जाकर दोनों हाथियों के नाम कागजात भी तैयार करवाए हैं। उनका कहना है कि अब यह दोनों हाथी ही उनका परिवार है।

अख्तर ने बताया कि कि उनका बेटा मेराज जायदाद के चक्कर में उसने अपनी प्रेमिका के साथ दुष्कर्म का झूठा आरोप लगाकर मुझे जेल भिजवा दिया था तथा हाथियों को बेचने के लिए उसने पशु तस्करों से सौदा किया था लेकिन वह पकड़ा गया। जिसके बाद मैंने अपनी पूरी जायदाद हाथियों के नाम करने का फैसला किया।

दोनों हाथियों को अपनी सारी संपत्ति दान करने वाले अख्तर ऐरावत संस्था के प्रबंधक हैं और वह 12 साल की उम्र से हाथियों की देखभाल कर रहे हैं वहीं अब अख्तर के इस काम को देखकर लोग हाथी वाला कह कर बुलाते हैं।

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …