उत्तर प्रदेश में तेज़ी से शुरु हुआ, नागरिकता के लिए प्रवासियों को चिह्नित करने का काम

लखनऊः पीएम मोदी दवारा लागु किए गए नागरिकता संशोधन कानून को लेकर एक तरफ पुरे भारत बवाल मचा हुआ है। वहीँ दूसरी और उत्तर प्रदेश में इस दिशा में कार्रवाई शुरु कर दी है। उत्तर प्रदेश में अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश से आए प्रवासियों को चिह्नित करने की कवायद शुरू कर दी गई है। जिसके अनुसार उत्तर प्रदेश पहला राज्य भी बन चूका है जिसने प्रवासियों को नागरिकता देने का काम शुरू करकिया है।

उत्तर प्रदेश सरकार दवारा जिलाधिकारियों को प्रवासियों को चिह्नित कर उनकी सूची तैयार करने को कहा गया है। इस तरह उसकी भी पहचान की जाएगी जो यूपी में अवैध रूप से रह रहे हैं।

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा सभी जिलों के जिला मजिस्ट्रेट को यह निर्देश दिए गए है कि वह उन प्रवासियों की पहचान करें जो पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आकर दशकों से यहां बिना नागरिकता के रह रहे हैं। अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार ने कहा सूची तैयार करने का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि राज्य सरकार के हस्तक्षेप से यह सुनिश्चित किया जा सके कि वास्तविक प्रवासियों को देश की नागरिकता मिल रही है। इससे वह देश के नागरिक बन सकेंगे। सरकार राज्य में अवैध मुस्लिम प्रवासियों पर केंद्रीय गृह मंत्रालय को भी जानकारी देगी। उन्होंने बताया कि अभी तक जो जानकारी सामने आई है उसके अनुसार लखनऊ, हापुड़, रामपुर, शाहजहांपुर, नोएडा और गाजियाबाद में पाकिस्तान और बांग्लादेश से आए प्रवासी अधिक संख्या में हैं।

Check Also

अनलॉक 2: क्या खुलेगा, क्या रहेगा बंद, यहाँ जाने खुलकर

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने अनलॉक-2 के लिए नई गाइडलाइन्स जारी कर दी है। जिसमे …