किसानों का टूटा सब्र- बोर्ड लगाकर भाजपा नेताओं के गांव में घुसने पर लगाई रोक

0
129
Loading...

उत्तर प्रदेश: यूपी में भाजपा सरकार की खुलेआम बगावत शुरू हो चुकी है। नया मामला अमरोहा में देखने को मिला जहाँ गांव के किसानो ने गांव के बाहर बोर्ड लगाकर बीजेपी नेताओं को चेतावनी दी गयी है। बोर्ड पर लिखा है की बीजेपी नेताओं का इस गांव में घुसने पर अपने जान माल की सुरक्षा खुद करे गांव वाले किसी भी प्रकार के नुकसान के लिए जिम्मेदार नहीं होंगे।


असल में दिल्ली में होने वाली किसान क्रांति पदयात्रा के दौरान किसानों पर लाठीचार्ज से नाराज अमरोहा के रसूलपुर माफी के लोगों ने जो बोर्ड लगाया गया। उस पर लिखा है, “किसान एकता जिंदाबाद. बीजेपी वालों का गांव में आना सख्त मना है। जान माल की स्वयं रक्षा करें। सौजन्य से किसान एकता, रसूलपुर माफ़ी, अमरोहा।”

रसूलपुर माफी गांव के तर्ज पर अब आसपास के अन्‍य गांव भी एकता दिखाने के लिए इस तरह के बोर्ड गांव के बाहर लगाने पर विचार कर रहे है। दिल्ली बॉर्डर पर किसानों पर हुये लाठीचार्ज से नाराज स्थानीय किसान धर्मपाल ने बताया कि वे किसान क्रांति पदयात्रा में गए थे। दिल्ली पुलिस ने हमें और हजारो किसानो को दिल्ली में प्रवेश नहीं करने दिया गया। किसानों पर लाठीचार्ज की गयी और आंसू गैस के गोले छोड़े गए जिसमे कई किसान घायल हुए थे। उन्होंने कहा की बीजेपी बस किसानो से हमदर्दी दिखाती है और अब भाजपा सरकार बिलकुल बर्दाश्त नहीं है।

गांव के ही उम्‍मेद सिंह का कहना है की बोर्ड का एक ही उद्देश्य है भाजपा का विरोध जताना। हम भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ हैं। हम ही नहीं बल्कि पूरा गांव इनके खिलाफ है। अगर भारतीय जनता पार्टी वाले यहां आते हैं तो उनके साथ भी वैसा ही होगा जैसा इन्‍होंने हमारे साथ किया था तो हम पर इल्जाम न लगाए। हमने बोर्ड लगाकर सूचित कर दिया है।
ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

Loading...