सुब्रमण्यन स्वामी ने खोज निकला- रावण का जन्म लंका में नहीं बल्कि नोएडा में हुआ था

0
108

पणजी-गोवा: बीजेपी सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने गोवा में ‘इंडियन कल्‍चर हेरिटेज एंड इट्स इम्‍पॉर्टेंस’ सब्जेक्ट पर चर्चा करते हुये कहा की रावण लंका का नहीं बल्कि दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के बिसरख गांव से था। आप उस गांव को जाकर देख सकते है। जो आज नोएडा(एनसीआर) कहलाता है। उन्होंने तर्क देते हुये कहा जैसे तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री एम. करुनानिधि का मानना है कि लंका का राजा रावण उन्हीं की तरह एक द्रविड़ थे। ऐसी तरह रावण का जन्म नोएडा में हुआ था।

उन्होंने आगे कहा की, राम इन लोगों के लिए घृणा के हक़दार थे, क्योंकि वह उत्तर भारत से थे और उन्होंने लंका के रावण को मारा था और वह द्रविड़ थे। रावण लंका से नहीं बल्कि दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के बिसरख गांव से था। जिसे आज नोएडा कहते है। रावण के बारे में आगे बताते हुये स्वामी ने कहा की, रावण ने मानसरोवर में तपस्या की थी, जिससे प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उन्हें एक वरदान दिया। जिसके बाद रावण लंका गया और अपने चचेरे भाई कुबेर को हराकर वहाँ का ‘लंका नरेश’ बन बैठा। स्वामी ने बताया की रावण एक ब्राह्मण था वह सामवेद का ज्ञानी था और पूर्व मुख्यमंत्री एम. करुणानिधि मानते थे कि वह उनके जैसे हैं। और इसी वजह से करुणानिधि मेरे द्वारा किए गए उस सबसे खिलाफ थे जो द्रविड़ विचारों के हिसाब से नहीं था।

उन्होंने आगे बताया की, मै आपको समझाना चाहता हूँ की हम सब कही दूर से नहीं आये हुए है। जैसा कि अंग्रेजों अपनी किताबो में लिख चुके है। स्‍वामी ने कहा अंग्रेजों के जमाने में एक थ्‍योरी सामने आई जिसमे लिखा था की द्रविड़ों को आर्यों ने उत्‍तर भारत से भगा दिया था। जो सही नहीं है। द्रविड़ और आर्य का मतलब है की उत्‍तर भारतीय और दक्षिण भारतीय एक ही हैं। यह थ्‍योरी क्रिश्चियन ने फैलाई।

इससे पहले भी सुब्रह्मण्यम स्वामी ट्वीट के जरिये रावण के जन्म को लेकर अपनी बात रख चुके है। 2013 के ट्वीट में उन्‍होंने लिखा था कि राम का जन्‍म अयोध्‍या में हुआ था, जबकि रावण का जन्म बिसरख में। दोनों उत्तर प्रदेश से थे जिन्‍होंने लंका में जाकर युद्ध किया।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here