गंगा सफाई के लिए 112 दिनों से ‘आमरण अनशन’ पर बैठे स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद का निधन

0
222
Loading...

नई दिल्ली: पिछले 22 जून से गंगा सफाई के लिए अनशन पर बैठे पर्यावरणविद् प्रोफेसर जीडी अग्रवाल उर्फ स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद का गुरुवार को निधन हो गया। आपको बतादे की पिछले 112 दिनों से अनशन पर बैठे स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद ने 9 अक्टूबर से पानी पीना भी बंद कर दिया था। अगले दिन तबियत बिगड़ने पर पुलिस ने उन्हें जबरदस्ती ऋषिकेश स्थित एम्स अस्पताल में भर्ती कराया था।

पर्यावरणविद् जीडी अग्रवाल गंगा को प्रदूषित होने से बचाने के लिए लगातार कोशिश करते रहे। पिछले 22 जून से ‘आमरण अनशन’ पर बैठे अग्रवाल की मांग थी की गंगा और इसकी सह-नदियों के आस-पास बन रहे हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट के कंस्ट्रक्शंस को बंद किया जाए और गंगा संरक्षण प्रबंधन अधिनियम को लागू किया जाए।

उन्होंने कहा था की केंद्र में मौजूद सरकार चाहे तो अपने बहुमत का उपयोग कर इसे पास करा सकती है। अगर ऐसा नहीं होता है तो मै अनशन उस दिन तोडूंगा जिस दिन ये विधेयक पास हो जाएगा। द वायर के अनुसार, अग्रवाल ने अनशन के दौरान बताया की गंगा को प्रदूषित होने से बचाने के लिए हमने प्रधानमंत्री कार्यालय और जल संशाधन मंत्रालय को कई सारे पत्र लिखे लेकिन किसी ने जवाब देने की कोशिश नहीं की। मैं पिछले 109 दिनों से अनशन पर बैठा हूं और अब मैंने फैसला कर लिया है कि इस कोशिश को और आगे तक ले जाऊंगा और अपने जीवन को गंगा नदी के लिए बलिदान कर दूंगा।

गौतलब है की प्रधानमंत्री मोदी ने 2014 में वादा किया था कि 2019 तक गंगा साफ कर दी जाएगी। हालाँकि इस वादे पर कई रिपोर्ट्स का कहना है की गंगा की सफाई के लिए कोई खास प्रभावी कदम नहीं उठाए गए हैं। वही गंगा की सफाई के लिए सरकार के प्रयासों का एक संसदीय समिति ने निरूपण किया था और कहा था की गंगा सफाई के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदम पर्याप्त नहीं हैं।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

Loading...