(PC-ANI)

शाहीन बाग प्रदर्शनकारियों और वार्ताकारों के बीच बनी बात, नोएडा जाने के लिए खुला रास्ता

नई दिल्ली: लगभग 50 दिन से ज्यादा समय से दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों और सुप्रीम कोर्ट की तरफ से नियुक्त किए गए वार्ताकारों के बीच सहमति बन गई है। जिसके बाद नोएडा-फरीदाबाद जाने वाले रास्ते को खोल दिया गया है।

मीडिया खबरों के अनुसार, 9 नंबर रास्ता खोलने को लेकर वार्ताकारों और प्रदर्शनकारियों के बीच सहमति बनी है। मीडिया खबरों के अनुसार प्रदर्शनकारियों ने कार और बाइक को जाने के लिए रास्ता खोल दिया है। पुलिस ने भी नोएडा-कालिंदी कुंज रोड से बैरिकेटिंग को हटा लिया है।

इससे पहले शुक्रवार की सुबह जब वार्ताकार साधना रामचंद्रन शाहीन बाग पहुंची और प्रदर्शनकारियों से नोएडा फरीदाबाद रास्ता खोलने की गुजारिश की तो उन्होंने साफ मना कर दिया था। बातचीत के दौरान प्रदर्शनकारियों ने एक तरफ से वाहनों की आवाजाही के लिए रास्ता खोलने को लेकर कुछ मांगे रखी थी।

प्रदर्शनाकारियों का कहना था कि सुप्रीम कोर्ट आदेश जारी कर 24 घंटे की सुरक्षा मुहैया कराए इसके अलावा शाहीन बाग और जामिया के लोगों के खिलाफ दर्ज केस को वापस लिया जाए तथा पिछले 2 महीने में हुई हर घटना की जांच होनी चाहिए। वही प्रदर्शन स्थल की सुरक्षा के लिए स्टील शीट का भी बंदोबस्त किया जाए।

वार्ताकार साधना रामचंद्रन शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे लोगों से कहीं और प्रदर्शन करने का प्रस्ताव दिया था लेकिन प्रदर्शनकारियों ने इस बात से साफ इनकार कर दिया था। शुक्रवार को शाहीन बाग में वार्ताकार और प्रदर्शनकारियों के बीच बातचीत सबसे अहम् रही।

सुरक्षा के मुद्दे पर बातचीत के दौरान वार्ताकार से प्रदर्शनकारियों ने कहा कि दिल्ली पुलिस लिखित में आश्वासन दे कि अगर यहां पर कोई घटना होती है तो कमिश्नर से लेकर बीट कांस्टेबल तक को जिम्मेदार ठहराया जाए और उन्हें बर्खास्त किया जाए।

वहीं जब वार्ताकार ने प्रदर्शनकारियों से पूछा कि दूसरी तरफ से सड़क किसने बंद कर रखी है जिस पर प्रदर्शनकारियों ने कहा कि उन्होंने दूसरी तरफ की सड़क को नहीं बंद किया है जिस पर वार्ताकार रामचंद्रन ने कहा कि इसका मतलब है कि पुलिस ने अपने आप बैरिकेटिंग कर सड़क को घेर रखा है।

Check Also

तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद फरार, पुलिस ने की तलाश जारी देश के कई हिस्सों में छापेमारी

तबलीगी जमात के प्रमुख मौलाना साद अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है, इस समय …