नायडू के बाद पश्चिम बंगाल में सीबीआई की एंट्री बंद, ममता सरकार ने भी लगाई पाबंदी

0
70

पश्चिम बंगाल: नायडू सरकार की तर्ज पर अब पश्चिम बंगाल में भी सीबीआई के प्रवेश पर पाबंदी लग गई है। पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार ने सीबीआई को राज्य में बिना परमिशन के छापे मारने या जांच करने के लिए दी गई ‘आम सहमति’ शुक्रवार को वापस ले ली है। और बिना इजाजत के राज्य में घुसने पर सीबीआई पर बैन लगा दी है।

सीबीआई को पश्चिम बंगाल में जाँच की ‘आम सहमति’ 1989 में लेफ्ट फ्रंट सरकार ने दी थी। जिसको ममता सरकार ने शुक्रवार को वापस ले ली है। अब सीबीआई को प्रदेश में किसी भी तरह की छापेमारी या जांच के लिए राज्य सरकार से परमिशन लेनी होगी। आपको बतादे की नायडू सरकार के ऐलान के बाद ममता बनर्जी ने इस घोषणा पर मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू का समर्थन किया था।

मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू द्वारा लिए गए फैसले का समर्थन ममता बनर्जी ने कहा था, भाजपा अपने राजनीतिक हितों और बदला लेने के लिए CBI व अन्य एजेंसियों का उपयोग कर रही है। आपको बतादे की नायडू सरकार ने इसी साल 3 अगस्त को सीबीआई को राज्य में उसकी शक्तियों का इस्तेमाल करने के लिए आम सहमति दी थी। अब इसे DSPE अधिनियम की धारा 6 के अंतर्गत निरस्त कर दिया है।

गौरतलब है की दिल्ली स्पेशल पुलिस इस्टैब्लिशमेंट एक्ट 1946 के नियमों के तहत सीबीआई का गठन हुआ था। आपको बतादे की सीबीआई के पास पूरी दिल्ली में जांच करने का अधिकार है। लेकिन वही दूसरे राज्यों में प्रदेश सरकार की ‘आम सहमति’ से जाँच कर सकती है।

तेलुगू देशम पार्टी (TDP) के प्रवक्ता लंका दिनाकर का कहना है की, यह फैसला पिछले 6 महीनों के दौरान CBI में हो रही घटनाओं को लेकर लिया गया है। मोदी सरकार इसका इस्तेमाल विपक्षी पार्टियों के खिलाफ औजार के रूप में कर रही है।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

loading...