दोषी पवन की क्यूरेटिव पिटीशन सुप्रीम कोर्ट में ख़ारिज, फांसी की सजा को आजीवन कारावास की सजा में बदलने की थी माँग

नई दिल्ली: निर्भया गैंगरेप के दोषियों में से दोषी पवन की क्यूरेटिव पिटीशन को सुप्रीम कोर्ट ने आज सुनवाई के दौरान खारिज कर दिया। क्यूरेटिव पिटीशन में दोषी पवन की फांसी की सजा को आजीवन कारावास की सजा में बदलने की मांग की गई थी।

वकील ने बताया कि दोषी पवन कुमार ने अपनी मौत की सजा को उम्रकैद में बदलने के लिए न्यायालय से अनुरोध किया है। वही निर्भया गैंगरेप के दोषियों में से दोषी अक्षय ने दोबारा राष्ट्रपति के पास दया याचिका दायर कर दी है इस दायर याचिका में उसने लिखा है कि पहले जो दया याचिका खारिज की गई उसमें कई महत्वपूर्ण जानकारियां छूट गई थी। इसलिए दोबारा दया याचिका दायर कर रहा हूं।

बता दें कि दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट द्वारा निर्भया गैंगरेप के सभी दोषियों को 3 मार्च कि सुबह 6:00 बजे फांसी देने का फैसला सुनाया था। वही तारीख करीब आने पर तिहाड़ जेल प्रशासन ने दोषियों की फांसी देने की तैयारी में जुट गया है। गौरतलब है कि इससे पहले निर्भया के दोषियों की दो बार फांसी टल चुकी है।

पहले अदालत ने 22 जनवरी के दिन निर्भया के दोषियों के लिए फांसी का दिन तय किया था। लेकिन रिव्यू पिटिशन दाखिल करने की वजह से फांसी टल गई थी। फिर बाद में 1 फरवरी का दिन फांसी के लिए मुकर्रर किया गया, लेकिन कुछ दोषियों की राष्ट्रपति के पास दया याचिका लंबित रहने की वजह से फांसी टल गई थी। अब कोर्ट ने 3 मार्च का दिन फांसी के लिए तय किया है।

गौरतलब है की 16 दिसंबर 2012 को 6 आरोपियों ने मिलकर 23 साल की लड़की के साथ चलती बस में गैंगरेप किया था और उसे बुरी तरह पीटा भी था। इस घटना ने पुरे देश को हिलाकर रख दिया था। कुछ दिन बाद ही निर्भया की मौत हो गयी थी।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …