लॉकडाउन के बीच बुजुर्ग दंपति का था जन्मदिन, केक लेकर खुद पहुँच गए एडीसीपी

बुजुर्ग दंपति के चेहरे की मुस्कान बने एडीसीपी चिरंजीव नाथ सिन्हा, कोरोना महामारी के चलते उत्तर प्रदेश पुलिस हर संभव प्रयास करने को अग्रसर है,ऐसे में पुलिस का मानवीय चेहरा एक बार फिर सामने आया,कोरोना महामारी के दौरान लॉकडाउन में भी अपने कर्तव्यों का सही पालन हुसैनगंज पुलिस कर रही है,

जनता के प्रति विश्वास और उनकी जरूरतों का ध्यान रखते हुए एडीसीपी चिरंजीव नाथ सिन्हा सहित हुसैनगंज पुलिस मित्र बनने की राह पर,आपको बता दे कि हुसैनगंज थाना क्षेत्र अंतर्गत मकान संख्या 58 / 114 निवासी लक्ष्मी वैश्य के घर पर किराये पर रहने वाले बुजुर्ग दंपति निर्मल गुप्ता उम्र 70 वर्ष व आशा गुप्ता उम्र 65 वर्ष की लॉकडाउन के चलते आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी।

जिसकी सूचना एडीसीपी चिरंजीव नाथ सिन्हा को प्राप्त हुई जिसके बाद उनके आदेशानुसार हुसैनगंज थाना प्रभारी अंजनी कुमार पांडेय ने बुजुर्ग दंपति से मुलाकात कर उनका हालचाल लिया,

इस दौरान इंस्पेक्टर हुसैनगंज को ये ज्ञात हुआ कि दिनांक 30 अप्रैल को बुजुर्ग दंपति की 43 वीं शादी की सालगिरह है जिसकी सूचना उन्होंने एडीसीपी चिरंजीव सिन्हा को दी, सूचना पाते ही एडीसीपी चिरंजीव सिन्हा ने उनकी शादी की वर्षगांठ मनाने के लिए उचित व्यवस्था कर उनके लिए कुछ उपहार स्वरूप राशन की सामग्री भी उपलब्ध कराई।

एडीसीपी सिन्हा ने बुजुर्ग दंपति का अभिवादन करते हुए उनकी 43 वीं शादी की सालगिरह पर केक खिलाकर बधाई दी। पुलिस के इस रवैये से पूरे क्षेत्र के लोगों ने उनकी प्रशंसा की और उन सभी का तालियों के साथ अभिवादन भी किया।

बुजुर्ग दंपति के परिजनों में सिर्फ उनकी एक बेटी है जिसका विवाह हो चुका है और वो कानपुर में रहती है, इस दौरान उनकी देख-रेख उनके मकान मालिक करते है। एडीसीपी चिरंजीव सिन्हा ने मकान मालिक लक्ष्मी वैश्य की सराहना करते हुए कहा कि देश को आप जैसे लोगों की आवश्यकता है। इस मौके पर हुसैनगंज थाना प्रभारी निरीक्षक अंजनी पांडेय समेत उनकी पूरी टीम मौजूद रही,कोरोना लॉक डाउन के चलते बुजुर्ग दंपति के चेहरे की मुस्कान बने एडीसीपी चिरंजीव नाथ सिन्हा। (रोहित गुप्ता की रिपोर्ट)

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …