85 लाख की कार से लॉकडाउन में घूम रहा था युवक, पुलिस ने रोककर करवाई उठक-बैठक, लेकिन सच्चाई जान मांगनी पड़ी माफ़ी

मध्यप्रदेश के इंदौर में जहां कोरोनावायरस की लगातार नए मामले सामने आ रहे हैं इसी बीच शनिवार को एक अमीर व्यक्ति अपनी पॉर्शे कार जिसकी कीमत लगभग 85 लाख रुपए बताई जा रही है लेकर लॉकडाउन के बीच रोड पर निकला था।

लेकिन पुलिस ने सुखलिया क्षेत्र में एमआर-10 पर रोककर उसे लॉकडाउन के नियमों के बारे में बताया तथा दोबारा ऐसी गलती ना करें इसके लिए उसे कान पकड़कर उठक बैठक भी करवाई। मिली जानकारी के अनुसार एमपी 09 सीडब्ल्यू 0001 नंबर की कार इंदौर में सांवेर रोड इंडस्ट्रियल एरिया स्थित आशा कांफ्रेंसिंग कंपनी के नाम पर रजिस्टर्ड है।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार, “मध्य प्रदेश के इंदौर की सुरक्षा समिति के कर्मियों द्वारा एक शनिवार को एक अमीर व्यक्ति से कान पकड़कर उठक बैठक करवाई। जिसका वीडियो भी वायरल हो रहा है। वह व्यक्ति लॉकडाउन के बीच अपनी लक्जरी कार पोर्श चला रहा था।

वहीं कंपनी के मालिक दीपक दरयानी ने कहा कि उनका बेटा संस्कार गाड़ी से जा रहा था उसके पास कर्फ्यू पास और मास्क भी मौजूद था लेकिन वह बिना मास्क पहने गाड़ी चला रहा था। वही दीपक दरयानी के बेटे संस्कार ने बताया कि लॉकडाउन में खाने के पैकेट बांट कर वापस घर जा रहा था। इसी बीच पुलिस ने रोक लिया और मेरी किसी भी बात को नजरअंदाज करते हुए सुरक्षाकर्मियों ने मेरे साथ बदसलूकी की थी।

कान पकड़कर उठक-बैठक का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है संस्कार के पास कर्फ्यू पास मौजूद था लेकिन कहां जा रहा है कि इसके बाद भी निगम नगर सुरक्षा समिति के कार्यकर्ताओं ने संस्कार के साथ बदसलूकी की है बाद में जानकारी की पुष्टि होने के बाद हीरानगर टीआई ने भी युवक से माफी मांग ली है।

Check Also

CISF के जवान ने सूझबूझ से बचाई व्यक्ति की जान, गृह मंत्री ने जताई ‘हीरो’ से मिलने की इच्छा

दिल्ली के डाबड़ी मोड़ मेट्रो स्टेशन पर बीते सोमवार को एक यात्री की जान बचाने …