यस बैंक को डुबाने वाले कोई और नहीं बल्कि अंबानी है, जिन्होंने डकार लिए बैंक के 12800 करोड़, और सुभाष चंद्रा ने डकारे 8400

मौजूदा समय में यस बैंक पर भरी संकट छाया हुआ है, एक बड़े खुलासे में समय है कि दस बड़े बिज़नेस घरानों की 44 कंपनियों ने यस बैंक के 34,000 करोड़ डकार लिए। जिसमे अनिल अंबानी की नौ कंपनियों ने यस बैंक से 12,800 करोड़ का लोन लिया। ज़ी न्यूज़ वाले सुभाष चंद्रा के एस्सल ग्रुप की 16 कंपनियों ने 8,400 करोड़ का लोन लिया। और DHFL की दीवान हाउसिंग फ़ाइनांस कारपोरेशन और बिलिंग रिएल्टर्स प्राइवेट लिमिटेड की कंपनियाँ हैं, जिन्होंने यस बैंक से 4,375 करोड़ का लोन लिया।

IL&FS ने यस बैंक से 2500 करोड़ लिया। जेट एयरवेज़ ने यस बैंक से 1100 करोड़ लोन लिया। यह सभी जानकारी इंडियन एक्सप्रेस से ली गई है। एक आम आदमी लोन लेकर घर ख़रीदता है। नौकरी चली गई। ई एम आई नहीं चुका पाता। घर की कुर्की हो जाती है। अनिल अंबानी को रफाल का धंधा मिल जाता है।

राणा कपूर भारतीय कॉर्पोरेट वर्ल्ड के बड़े खिलाड़ी बताये जाते हैं, यस बैंक की शुरूआत राणा कपूर ने 2004 में अपने एक रिश्तेदार के साथ मिलकर की थी। 1000 से ज़्यादा शाखाओं और 1800 से ज़्यादा ए.टी.एम वाला यस बैंक देश का चौथा सबसे बड़ा बैंक है। राणा कपूर ने मोदी सरकार द्वारा लायी गई नोटबंदी के लिए तारीफ की झड़ी लगा दी थी। साल 2018 में आर.बी.आई को येस बैंक की बैलेंस शीट और एन.पी.ए में गड़बड़ी लगी. इसलिए राणा कपूर को आर.बी.आई ने हटा दिया था. राणा के हटने के बाद भी यस बैंक की स्थिति और भी गिरती गई. सरकार जब विनिवेश के नशे में मशगूल है, तब देश के निजी बैंकों की हालत पस्त है!

फ़िलहाल भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने येस बैंक के ग्राहकों को भरोसा दिलाया है कि ये संकट जल्दी ही खत्म हो जायेगा। दूसरी तरफ भारत सरकार 28 पी.एस.यू को बेचने को तैयार बैठी है। निजी क्षेत्र की कंपनियां एक के बाद एक धराशायी हो रही हैं, लेकिन सरकार को अभी भी निजीकरण का भूत सवार है। जेट एयरवेज़, पी.एम.सी बैंक, एयर इंडिया और अब येस बैंक इसके गवाह हैं. इस लिस्ट की भविष्य में बढ़ने की संभावनाएं प्रबल हैं।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …