1 अप्रैल से देश के ये 2 बड़े बैंक हो जाएंगे बंद, अगर आपका अकाउंट है तो अभी पढ़े खबर

0
41657
Loading...

अगर आप भी इन बैंको में अकाउंट खोलवा रखा है तो यह खबर आपके लिए है। क्योंकि 1 अप्रैल के बाद से देश के ये दो बड़े बैंक बंद होने जा रहे हैं। आरबीआई के निर्देश पर इन बैंको का बैंक ऑफ बड़ौदा में विलय किया जायेगा। विजया बैंक और देना बैंक का बैंक ऑफ बड़ौदा में विलय होने के बाद कस्टमर को नया अकाउंट नंबर के साथ कस्टमर आईडी मिल सकती है।

विलय योजना के अंतर्गत देना बैंक के शेयरधारकों को प्रत्येक 1,000 शेयरों पर बैंक ऑफ बड़ौदा के 110 शेयर तथा विजया बैंक के शेयरधारकों को प्रत्येक 1,000 शेयर पर बैंक ऑफ बड़ौदा के 402 इक्विटी शेयर ही दिए जायेंगे। विलय के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक हो जायेगा। इससे पहले आईसीआईसीआई बैंक 11.02 लाख करोड़ रुपये के साथ कारोबार कर रहा था।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया 45.85 लाख करोड़ रुपये मूल्य के कारोबार के साथ पहले स्थान पर था। वही दूसरे स्थान पर 15.8 लाख करोड़ रुपये कारोबार के साथ एचडीएफसी बैंक था। वही अब नए बैंक ऑफ बड़ौदा का कारोबार 15.4 लाख करोड़ रुपये का होगा।

विजया बैंक तथा देना बैंक के बैंक ऑफ बड़ौदा में विलय के बाद कस्टमर को नया अकाउंट नंबर के साथ कस्टमर आईडी मिल सकती है। वही अकाउंट नंबर के साथ-साथ IFSC कोड भी दिए जायेंगे। जिसके बाद कस्टमर को अपनी नई डीटेल्स इनकम टैक्स डिपार्टमेंट, इंश्योरंस कंपनियों, म्यूचुअल फंड, नैशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस) आदि में अपडेट करवाने पड़ेंगे।

ग्राहकों को नए डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड के साथ नई चेकबुक जारी की जा सकती है। इसी के साथ ग्राहकों को SIP या लोन EMI के लिए नया इंस्ट्रक्शन फॉर्म भरना पड़ सकता है। इस सबके अलावा फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी), रेकरिंग डिपॉजिट (आरडी) पर बैंक की तरफ से ग्राहकों को दिए जाने वाले ब्याज डरो में कोई बदलाव नहीं होगा।

ग्राहकों द्वारा लिए गए होम लोन, पर्सनल लोन, बाईक लोन की ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किये जायेंगे। वही कुछ शाखाएं बंद की जा सकती है। जिससे कोई काम करवाने के लिए नई ब्रांच पर जाना पड़ सकता है। गौरतलब है की इससे पहले स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, भारतीय महिला बैंक (बीएमबी), स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर (एसबीबीजे), स्टेट बैंक ऑफ मैसूर (एसबीएम), स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर का स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) में विलय कर दिया गया था।

Loading...