इस डॉक्‍टर ने चीन को कोरोना वायरस से किया था सबसे पहले सचेत, डॉक्‍टर की भी कोरोना वायरस से हो गई मौत

कोरोना वायरस अब तक पूरी दुनिया को मिलाकर 8 हजार से ज्यादा लोगों की जान ले चुका है जबकि अपने प्रकोप से 4 लाख से ज्यादा लोगों को संक्रमित किया है। वही कोरोनावायरस कि भारत में भी अब तक 600 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। जिनका डॉक्टरों की निगरानी में इलाज चल रहा है।

इस वायरस ने चीनी डॉक्टर ली वेनलियांग की भी जान ले चुका है। डॉक्टर ली उन 8 लोगों में से थे जिन्होंने कोरोनावायरस को लेकर पहले ही चीन को सचेत किया था। उस समय डॉक्टर ली की बातों को नजरअंदाज किया गया और स्थानीय पुलिस ने डॉक्टर को फटकार भी लगाई थी।

30 दिसंबर को ही कोरोनावायरस के प्रकोप से बचने के लिए डॉक्टर ली ने आगाह किया था। ऑनलाइन एम्‍युमनी चैट ग्रुप में डॉक्टर ली ने बताया था कि उनके अस्पताल में 7 ऐसे मरीज आए हैं जिनमें सार्स जैसी बीमारी के लक्षण मौजूद पाए गए हैं। बतादे कि साल 2003 में भी इस वायरस से सैकड़ों लोगों की मौत हुई थी।

ऑस्ट्रेलियाई पीएम स्कॉट मॉरिसन ने सिडनी के 2 जीबी रेडियो स्टेशन के साथ एक साक्षात्कार में स्वीकार किया कि ऑस्ट्रेलिया में कोविड-19 के कई मरीज अमेरिका से आए हैं। ऑस्ट्रेलिया ने 20 तारीख की रात से अमेरिकी सहित सभी विदेशियों के प्रवेश करने पर प्रतिबंध लगा दिया। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया ने अमेरिका पर यात्रा प्रतिबंध कभी नहीं लगाया है

अब अमेरिका में कोविड-19 के पुष्ट मामलों की संख्या दुनिया में तीसरे स्थान पर हो चुकी है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने न्यूयॉर्क, वाशिंगटन और कैलिफोर्निया को ‘प्रमुख आपदा क्षेत्र’ घोषित किया गया है. लेकिन, अमेरिकी सरकार अभी भी असंबद्ध दिखाई देती है.20 मार्च को व्हाइट हाउस द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में, अमेरिकी सर्वोच्च नेता ने कहा कि उन्होंने पूरे देश में ‘कर्फ्यू’ लगाने पर विचार नहीं किया है. क्योंकि ‘अमेरिका के कई हिस्सों में महामारी की स्थिति गंभीर नहीं है.’

Check Also

पाकिस्तान प्लेन क्रैश का वीडियो आया सामने, 2 लोगो के जिन्दा होने की खबर

शुक्रवार को पाकिस्तान इंटरनेशनल की फ्लाइट A320 लैंडिंग से ठीक पहले दुर्घटनाग्रस्त हो गयी थी। …