ट्रंप का WHO डायरेक्टर को चेतावनी भरा खत, 30 दिन में नहीं उठाया ठोस कदम हमेशा के लिए बंद कर देंगे फंडिंग

0

कोरोना वैश्विक महामारी के दौरान वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) द्वारा ठोस कदम नहीं उठाए जाने से खफा चल रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ के डायरेक्टर जनरल टेड्रोस एडहोम घेबियस के नाम एक लेटर लिखा है। अपने लेटर में लिखा है कि अगर डब्ल्यूएचओ 30 दिनों के भीतर अपने काम करने के तरीके में सुधार नहीं करता है तो वह फंडिंग को हमेशा के लिए रोक देंगे।

व्हाइट हाउस के आधिकारिक लेटर हेड पर लिखे गए इस लेटर के कॉपी को डोनाल्ड ट्रंप ने अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया है। ट्रंप ने लेटर में लिखा है कि कोरोना वैश्विक महामारी से निपटने में आपके द्वारा देर से उठाए गए कदम की वजह से आज पूरी दुनिया को नुकसान उठाना पड़ रहा है। डब्ल्यूएचओ के लिए आगे बढ़ने का एक ही तरीका मात्र है कि वह चीन से अपनी आजादी साबित करें।

उन्होंने WHO के डायरेक्टर को भेजे गए लेटर में आगे लिखा है कि मेरे अधिकारियों द्वारा डब्ल्यूएचओ में सुधार के लिए पहले आपसे बातचीत शुरू कर दी है। लेकिन फौरी तौर पर कार्रवाई करने की जरूरत है हमारे पास खोने के लिए समय नहीं है।

गौरतलब है कि दुनिया में कोरोना का सबसे ज्यादा प्रकोप अमेरिका में ही देखने को मिला है जिसके चलते अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन से नाराज हैं। डोनाल्ड ट्रंप का आरोप है कि WHO ने कोरोना को लेकर समय रहते कोई ठोस कदम नहीं उठाया। इसके चलते दुनिया आज मुसीबत में पड़ गई है और दुनिया से करोना को लेकर जानकारी छिपाई गई।

फिलहाल डब्ल्यूएचओ से नाराज चल रहे ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ की फंडिंग रोक दी है और चेतावनी दी है कि वह हमेशा के लिए फंडिंग पर पाबंदी लगा सकते हैं बता दें कि अमेरिका डब्ल्यूएचओ को सालाना 400 से 500 मिलियन डॉलर फंडिंग के तौर पर देता है जबकि चीन लगभग 40 मिलियन डॉलर 1 साल में फंडिंग देता है।