बोलने से लाचार महिला के पेट में पल रहा था ट्यूमर, लोग समझ रहे थे गर्भवती, बिना पैसे के डॉक्टर ने निकाला बाहर

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में एक महिला के पेट से 10 किलो का ट्यूमर निकाला गया है। दोनों पति-पत्नी बोल सुन नहीं सकते तथा आर्थिक रूप से पूरी तरह से कमजोर होने पर एक नर्सिंग होम ने मानवता की मिसाल पेश करते हुए महिला का निशुल्क ऑपरेशन कर पेट से ट्यूमर निकाला है।

बोल बसून नहीं सकने वाली महिला को लोग गर्भवती समझ रहे थे लेकिन जब उसकी जांच की गई तो पता चला कि उसके पेट में बच्चा नहीं बल्कि 10 किलो का भारी-भरकम ट्यूमर पल रहा है। डॉक्टर ने बताया कि चुम्मन वर्मा अपने पति संत राजपूत के साथ जब मेरे पास इलाज कराने पहुंची तो उसका पेट बहुत बड़े आकार में था। जब हमने जांच की तो पता चला कि उसके पेट में ट्यूमर पनप रहा है।

डॉक्टर बृजेश पटेल सर्जन ने कहा कि दोनों पति-पत्नी मूक-बधिर तो थे ही इसके अलावा उनके पास इलाज कराने के लिए बिल्कुल भी पैसे नहीं थे। इसलिए मैंने अपनी नर्सिंग होम में उसका इलाज करने की जिम्मेदारी उठाई।

डॉक्टर ने बताया कि वैसे तो आमतौर पर ट्यूमर का वजन 4 से 5 किलो के बीच ही होता है मगर चुम्मन वर्मा के पेट में 10 किलो से अधिक का ट्यूमर निकला है। इसका 2 घंटे से भी ज्यादा ऑपरेशन चला मैंने अपने करियर में पहली बार इतना वजनी ट्यूमर निकाला है।

बतादे की बिलासपुर के कामता गांव नवागढ़ बेमेतरा के रहने वाले चुम्मन वर्मा पत्नी संत राजपूत दोनों बोल सुन नहीं सकते। चुम्मन वर्मा का 1 साल पहले पेट निकलना शुरू हुआ तो लोगों ने समझा कि वह गर्भवती है। बोल न पाने की वजह से वह लोगों से कुछ बता नहीं पाती थी। 3 महीने गुजरने के बाद पेट और भी ज्यादा बढ़ा तो जांच कराने के लिए निजी नर्सिंग होम पहुंचे। जांच में पता चला कि चुम्मन वर्मा के पेट में 10 किलो से ज्यादा का ट्यूमर पनप रहा है।

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …