पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के 68वे जन्मदिवस से पहले बदला दो प्रमुख संस्थानों का नाम, मोदी सरकार ने सुषमा की याद में लिया फैसला

0

14 फरवरी को सुषमा स्वराज की बर्थ एनिवर्सरी से पहले सांस्कृतिक केंद्र प्रवासी भारतीय केंद्र का नाम बदलकर गुरुवार को पूर्व विदेश मंत्री के नाम पर सुषमा स्वराज भवन कर दिया गया। बतादें कि दूसरे देश में फंसे भारतीयों से संपर्क साधने में मशहूर रही पूर्व विदेश मंत्री के सम्मान में भवन का नामकरण किया गया है।

सांस्कृतिक केंद्र प्रवासी भारतीय केंद्र के अलावा राजनयिकों को ट्रेनिंग देने वाले विदेश सेवा संस्थान का भी नाम बदलकर सुषमा स्वराज विदेश संस्थान कर दिया गया है। मोदी सरकार ने यह फैसला पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की 68 वीं जयंती से 1 दिन पहले करने का किया था।

मोदी सरकार में विदेश मंत्रालय संभाल चुकी सुषमा स्वराज की अचानक 6 अगस्त को हार्ट अटैक की वजह से निधन हो गया था। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने ट्वीट कर कहा कि ‘हम सभी पूरे अनुराग से श्रीमती सुषमा स्वराज को याद करते हैं शुक्रवार को उनका 68वां जन्मदिवस है विदेश मंत्रालय परिवार उनकी कमी हमेशा महसूस करेगा।’

गौरतलब है कि सुषमा स्वराज ट्विटर पर सबसे ज्यादा एक्टिव रहती थी यही कारण रहा कि पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा फॉलो की जाने वाली विदेश मंत्री सुषमा स्वराज थी। इसके अलावा उन्हें देश से बाहर फंसे भारतीयों की मदद करने के लिए भी जाना जाता था।