मुंबई से पैदल चलकर यूपी अपने गांव आया, घर वालों से भी नहीं मिला था कि प्रशासन ने उसे क्वारंटीन कर दिया, 6 घंटे बाद मौत

0

देश में Lockdown है, जिसके कारण अपना रोजगार खो चुके लोग अपने घर और गांव तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं। पीएम मोदी दवारा लॉकडाउन की घोषणा के बाद हज़ारों लोग दिल्ली और मुंबई से पैदल ही अपने-अपने गांवों की तरफ चल दिए थे। हज़ारों किमी का सफर करके लोग किसी तरह अपने घर पहुंचे। भूख और तकलीफें भी उन्हें अपनों तक पहुंचने से नहीं रोक पाई। लेकिन इनमे ही कुछ लोग भी थे जो इतने नसीब वाले नहीं निकले कि जिस परिवार के लिए इतनी तकलीफें उठाकर घर पहुंचे और उनसे मिल पाते।

नई दुनिया में छपी खबर के अनुसार, ऐसा ही एक मामल उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती जिले से सामने आया है, यहां एक युवक मुंबई से 1600 किमी का सफर करते हुए सीधे अपने गांव आया लेकिन घर वालों से मिलने के पहले ही मौत उसे दुनिया से दूर ले गई। असल में यह शख्स 1600 किमी चलकर श्रावस्ती पहुंचा तो उसे 14 दिन के लिए प्रशासन दवारा गांव के ही स्कूल में क्वारंटीन कर दिया गया था। लेकिन क्वारंटीन होने के 6 घंटे बाद ही उसकी संदिग्ध हालातों में मौत हो गई

जिस युवक की मौत हुई वो श्रावस्ती जनपद के थाना मल्हीपुर के मठखनवा गांव का निवसी था। लॉकडाउन के दौरान वह चोरी-छिपे पैदल चलते हुए अपने गांव पहुंचा था। सुबह 7 बजे गांव पहुंचे युवक को प्रशासन ने क्वारंटीन सेंटर में रखा था लेकिन दोपहर 1 बजे तक उसकी संदिग्ध हालत में मौत हो गई। क्वारंटीन सेंटर में हुई इस मौत से पूरे इलाके में बवाल मच गया और अधिकारी मौके पर पहुंचे।

वहीं मृतक युवक के परिजन जो उसके पास गए थे उन्हें भी क्वारंटीन कर दिया गया है। परिजनों ने बताया कि उसके शरीर की जो हालत थी उससे यही लग रहा था कि वो इतनी दूर पैदल चलकर ही पहुंचा था। हालांकि, फिलहाल साफ नहीं है कि युवक की मौत किस वजह से हुई है लेकिन इसकी जांच जारी है।