यूपी पुलिस की करतूत- पैसे बचाने के लिए लावारिस लाश को टायर और कूड़े से जला डाला, वीडियो हुआ वायरल

0
1478
photo credit: istockphoto.com

उत्तर प्रदेश: उत्तर प्रदेश के बागपत जिले से शर्मशार करने वाली घटना सामने आयी है। जहाँ एक 55 साल के व्यक्ति की लावारिस शव को मिटटी तेल, प्लास्टिक, कूड़े, टायर और टहनियां डालकर जलाने का मामला सामने आया है। इस कारनामे को एक हेड कॉन्स्टेबल ने किया है। जिसे सस्पेंड कर दिया गया है। वही बागपत जिले के एसपी ने इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं।

शव को इस तरह जलाने का कथित वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए हेड कॉन्स्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया है।पुलिस थाना इंचार्ज राकेश कुमार सिंह ने बताया, ‘एक 55 साल के व्यक्ति के शव को बागपत के नजदीक सिसाना के जंगलों से 7 जनवरी को बरामद किया गया था। हमने तीन दिन तक प्रतीक्षा कि ताकि जिले में पुलिस थानों में गुमशुदा लोगों के बारे में दर्ज एफआईआर से शव की पहचान की जा सके। हालांकि, हमें कोई जानकारी नहीं मिली। हमने (हेड कॉन्स्टेबल) जयवीर सिंह को शव का अंतिम संस्कार करने को कहा। ऐसा लगता है कि उसने लावारिस शवों के अंतिम संस्कार के मद में मिलने वाले पैसे को अपने पास रख लिया। और शव को मिटटी तेल, प्लास्टिक, कूड़े, टायर और टहनियां डालकर जला दिया है।
उसे सस्पेंड कर दिया गया है।’

वही पुलिस ने बताया की, लावारिस शव के अंतिम संस्कार की निभाने वाले पुलिसकर्मी को 2700 रुपये दिए जाते है। इंचार्ज राकेश कुमार सिंह ने बताया की, ‘जयवीर सिंह ने बताया कि श्मशान भूमि से खरीदी गई लकड़ियां गीली थीं इसलिए उसने टायर, केरोसीन और पॉलिथीन-प्लास्टिक आदि से आग लगाई। हालांकि, उसने इस बारे में समुचित जवाब नहीं दिया कि उसने शव को ठीक ढंग से श्मशान क्यों नहीं पहुंचाया।’

इसके अलावा बागपत के एसपी शैलेश कुमार पांडेय ने कहा की, ‘वीडियो में यह साफ दिख रहा है कि लावारिस शव को टायर, प्लास्टिक वेस्ट और न्यूनतम लकड़ियों का इस्तेमाल करके जलाया गया। यह न केवल अनैतिक है, बल्कि ऐसे शवों के अंतिम संस्कार की प्रक्रिया का उल्लंघन है। हमने इस चौंकाने वाली घटना के मामले में जांच के आदेश दिए हैं। एक हेड कॉन्स्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया है।’

वही कारनामे को अंजाम देने वाले कॉन्स्टेबल जयवीर सिंह का कहना है की, ‘श्मशान से जो मैंने लकड़ियां खरीदी थीं, वो गीली थीं इसलिए मैंने चिता जलाने के लिए टायर और केरोसीन का इस्तेमाल किया। एक बार आग पकड़ने के बाद, मैंने टायर हटा लिए, लेकिन वीडियो में उस हिस्से को हटा दिया गया। मैंने श्मशान भूमि पर शव का अंतिम संस्कार न करने के लिए एसपी से लिखित में माफी मांगी है।’

Loading...