(PC-DB)

लॉकडाउन की वजह से दूसरे राज्य में फसे यूपी के मजदूर, पेट की भूख मिटाने के लिए घर-घर जाकर मांग रहे रोटी

देशभर में लागू हुए लॉकडाउन की वजह से मध्य प्रदेश के भिंड जिले के ग्रामीण इलाकों में अभी भी उत्तर प्रदेश के हजारों दिहाड़ी मजदूर फंसे हुए हैं वह घर जाना चाहते हैं लेकिन प्रशासन की अनुमति न मिलने की वजह से वह मजबूरी में वहां अपने दिन काट रहे हैं।

दैनिक भास्कर में छपी खबर के अनुसार, दबोह के छान पंचायत में आदिवासी समुदाय के 37 लोग लॉकडाउन की वजह से फंसे हुए हैं इनमें कुछ महिलाएं ऐसी भी हैं जो गर्भवती है वही खेतों में काम ना होने की वजह से उनके खाने पर भी संकट मडरा रहा है वह किसी तरह गांव में घर-घर जाकर रोटी मांग कर अपना पेट भर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश के मऊरानीपुर के निवासी काफी लोग जो भिंड जिले के गांव के ग्राम पंचायत भवन में ठहरे हुए हैं इस भीषण गर्मी में ना ही बिजली मिल रही है ना ही पानी की सुविधा दी गई है किसी तरह वह अपने दिन को वहां गुजार रहे हैं। पंचायत के पूर्व सरपंच राजपाल सिंह गुर्जर ने ग्रामीण में फंसे मजदूरों को घर भेजने के लिए कोशिश की थी लेकिन प्रशासन से अनुमति नहीं मिली।

बाहरी इलाके में फंसे हजारों मजदूरों को प्रशासन ने निकाल दिया लेकिन उत्तर प्रदेश के जिलों से मजदूरी करने आए लोगों को प्रशासन ने अनुमति नहीं दी है। इस संबंध में कलेक्टर छोटे सिंह ने बताया कि हमने सभी लोगों की लिस्ट तैयार कर उन्हें घर भिजवाने की व्यवस्था की थी मगर उत्तर प्रदेश सरकार बाहर के लोगों को परमिशन नहीं दे रहे हैं जिसके कारण उस राज्य के मजदूरों को मजबूरी में यह रुकना पड़ा है।

Check Also

जम्मू और कश्मीर: त्राल में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में एक आतंकी को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी

जम्मू और कश्मीर: पुलवामा के त्राल क्षेत्र में मंगलवार सुबह सेना के जवानो की आतंकियों …