उत्तर प्रदेश, बदले की कार्रवाई के चलते, कोर्ट के आदेश के बावजूद 57 CAA विरोधियों के ख़िलाफ़ लगाए वसूली के पोस्टर्स

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की नागरिकता कानून का विरोध करने वालों के ख़िलाफ़ बदले वाली कार्रवाई जारी है। क्युकी अब यूपी की राजधानी लखनऊ में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन करने वाले 57 लोगों की चौराहों पर होर्डिंग्स लगाई गई हैं। जिनपर आरोप लगा है कि इन्होंने 19 दिसंबर को हुए प्रदर्शन में सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया। जिनसे सरकार अब पैसे वसूली करेगी।

प्रशासन ने दावा किया है कि इन 57 लोगों के चौराहों पर होर्डिंग्स मजिस्ट्रेट द्वारा कराई गई जांच के बाद लगी हैं। ज़िलाधिकारी डीएम अभिषेक प्रकाश के अनुसार, मजिस्ट्रेट की जांच में इन लोगों को दोषी पाया गया है।

प्रकाश ने कहा कि होर्डिंग्स में आरोपियों की तस्वीरें होने के साथ ही यह भी लिखा गया है कि मजिस्ट्रेट की कोर्ट से आदेश जारी होने के 30 दिनों में हिंसा के दोषी पाए गए लोगों ने धनराशि जमा नहीं की तो उनकी संपत्तियां कुर्क कर इसकी वसूली की जाएगी। ऐसी होर्डिंगे उन सभी थाना क्षेत्रों में लगाई जाएंगी जहां जहां हिंसा की गई थी।

प्रशासन द्वारा लगाई गई इन होर्डिंग्स पर सदफ़ जाफ़र ने आपत्ति जताई है। उन्होंने एनडीटीवी से बात करते हुए बताया कि ये कार्रवाई लोगों को बदनाम करने के लिए की जा रही है। जोकि सही नहीं है।

शहर के चौक-चौराहों पर लगी इन होर्डिंग्स में कई बड़े नाम भी मौजूद हैं। अटल चौक और हजरतगंज इलाके में लगी बड़ी-बड़ी होर्डिंग्स में पूर्व आईपीएस अफसर एसआर दारापुरी, दीपक मिश्रा, सामाजिक कार्यकर्ता और कांग्रेस से जुड़ी रहीं सदफ जाफर, मौलाना सैफ अब्बास और मौलाना कल्बे सादिक़ के बेटे सिब्तैन नूरी भी शामिल हैं।

प्रशासन दवारा वसूली के ये होर्डिंग्स ऐसे वक़्त में लगाई है जब इसको लेकर मामला कोर्ट में विचाराधीन है। इससे पहले फरवरी में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए सरकार द्वारा जारी किए जा रहे वसूली के नोटिस पर रोक लगा दी थी। कोर्ट ने कहा था कि, वसूसी का नोटिस जांच की प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही जारी किया जायेगा।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …