Google Pay से परेशान यूज़र को Paytm का सहारा! CEO विजय शेखर ने ‘ग्राहक सहायता’ देने का किया वादा

0
पेटीएम के CEO ने Google Pay यूज़र की मदद करने का वादा किया है.

पेटीएम के CEO ने Google Pay यूज़र की मदद करने का वादा किया है.

पेटीएम के विजय शेखर शर्मा ने ट्विटर पर गूगल पे के परेशान यूज़र को पेटीएम इस्तेमाल करने का सुझाव दिया है, जिसके साथ यूज़र को CEO-लेवल कस्टमर सपोर्ट भी दिया जाएगा.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    February 24, 2021, 9:31 AM IST

कॉम्पीटीटर को टारगेट करना बिज़नेस की दुनिया में एक आम बात है. ब्रैंड अकसर एक-दूसरे की कमियों को बताने के लिए नए-नए तरीके खोजते हैं. पेटीएम (Paytm) के CEO विजय शेखर शर्मा (Vijay Shekhar Sharma) ने माइक्रोब्लॉगिंग प्लैटफॉर्म ट्विटर (Twitter) पर प्रतिद्वंद्वी ऑनलाइन भुगतान प्लेटफॉर्म गूगल पर कटाक्ष किया है. दरअसल ट्विटर पर एक पोस्ट में अपर्णा जैन नाम की यूज़र ने पूछा कि गूगल पे पर XV XV एरर का क्या मतलब होता है? यूज़र ने ट्वीट में लिखा, ‘जो लोग Gpay का इस्तेमाल करते हैं. XV कौन सी एरर है. मुझे ये ऑनलाइन नहीं मिल रही है @गूगलपेइंडिया.’ ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए, विजय शेखर शर्मा ने सुझाव दिया कि वह यूज़र पेटीएम पर कोशिश कर सकती है और इसके लिए उसे केवाईसी की ज़रूरत नहीं होगी, और वह सीधे अपने बैंक अकाउंट से पेमेंट कर सकती है.

आगे शर्मा ने कहा कि उसे इसके साथ CEO-लेवल कस्टमर सपोर्ट भी मिलेगा. विजय शेखर शर्मा के किए गए वादे के बाद ट्विटर पर अलग-अलग तरह के रिएक्शन सामने आने लगे. जहां कुछ लोगों ने पेटीएम और उसके कस्टमर सपोर्ट को लेकर शर्मा के साथ सहमती दिखाई, वहीं कुछ लोगों ने इसपर मिली जुली राय दी है.

ट्विटर यूज़र दिवांश मेहता ने भी चल रही इस बातचीत में रिप्लाई कर कहा, ’पेटीएम, गूगल पे से लाख गुना बेहतर है, लेकिन एक सिंगल ऐप में कई तरह के फीचर देने से आम लोगों के लिए  इसे समझना थोड़ा मुश्किल हो जाता है. इसलिए मैने लोगों को धीरे-धीरे फोनपे पर शिफ्ट होते देखा है’.

हालांकि, कई अन्य लोगों ने शर्मा के ‘CEO लेवल सपोर्ट’ के दावे पर कहा कि जैसा कि ऐप के संस्थापक ने दावा किया है पेटीएम ग्राहक समर्थन वास्तव में प्रोफेशनल नहीं है. एक ट्विटर यूज़र अमरेन्द्र दुबे ने कहा, पेटीएम सपोर्ट मेरे लिए अब तक का सबसे बुरा अनुभव है. ये बेकार प्रोडक्ट्स डेलिवर करते हैं, और और प्रोडक्ट वापस करने योग्य होने के बावजूद भी रिटर्न नहीं लेते हैं. विजय शेखर शर्मा से समर्थन मांगना बहुत निराशाजनक है. पेटीएम अपनी नीति का पालन नहीं करता है.’एक ऑनलाइन भुगतान वॉलेट के रूप में शुरू होने के बाद, पेटीएम भारत के अब तक के सबसे सफल स्टार्टअप में से एक बन गया है.