Image Credit- Google

विशाखापत्तनम गैस त्रासदी: फिर उड़ी गैस रिसाव की अफवाह, गांव के लोगों में दहशत, सरकार ने कहा ऐसा कुछ नहीं

आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम के वेंकटपुरम गांव में स्थित एलजी पॉलीमर से शुक्रवार को जहरीली गैस के रिसाव की अफवाह के बाद आसपास के गांव के लोगों के बीच दहशत का माहौल है। हालांकि इस अफवाह से लोगों को बचाने के लिए सरकार को खुद सामने आना पड़ा। सरकार ने कहा कि लोगों को डरने की जरूरत नहीं है अब ऐसी कोई घटना नहीं हुई है।

बतादे की एलजी पॉलीमर संयंत्र से बृहस्पतिवार को जहरीली गैस के रिसाव होने से 12 लोगों की मौत हो गई थी। विशाखापट्टनम जिला प्रशासन के साथ आंध्र प्रदेश की मुख्य सचिव नीलम साहनी ने हालात का जायजा लिया। वहीं सरकार का कहना है कि गांव वाले हालात सही होने के लिए 48 घंटे का इंतजार करने के बाद अपने गांव लौट सकते हैं।

आंध्र प्रदेश सरकार ने वेंकटपुरम गांव में स्थित एलजी पॉलीमर के आसपास रहने वाले 10 हजारसे ज्यादा ग्रामीणों को राहत शिविर से वापस अपने गांव जाने के लिए कहा है क्योंकि सरकार द्वारा लगाए राहत शिविरों में उन्हें काफी दिक्कतें हो रही है।

हालाँकि आंध्र प्रदेश सरकार राहत शिविरों में रह रहे ग्रामीणों के खाने-पीने का इंतजाम कर रही है। वही स्टाइरीन गैस की जद में आने से 454 ग्रामीण अभी भी अस्पताल में भर्ती हैं यह सभी लोग एलजी पॉलीमर संयंत्र स्थित गांव वेंकटपुरम के निवासी है।

वही स्टाइरीन को पूरी तरह से निष्क्रिय करने के लिए गुजरात और नागपुर के तकनीकी विशेषज्ञ काम में जुट गए है। गुजरात से आये पीटीबीसी निरोधक को शुक्रवार से जहरीली गैस को निष्क्रिय करने के लिए लगाया गया है।

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …