जब वो पैदा हुआ तो आपकी हथेली में हो जाता फिट, लेकिन डॉक्टर्स ने दिन रात मेहनत कर जिलाया

भारत में 12 दिसंबर 2019 को जन्मे सबसे छोटे बच्चे को हॉस्पिटल से छुट्टी दे दी गई है। जिस समय बच्चे ने जन्म लिया था उस समय उसका कुल वजन 350 ग्राम था। यह बच्चा इतना छोटा था कि इसे आप अपनी एक हथेली में आसानी से सिमटा सकते थे। बच्चे की पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद लूर्डेस हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

न्यू इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के अनुसार, डॉक्टर्स ने बच्चों के मां की कोख में परेशानी को देखते हुए ऑपरेशन कर समय से पहले बाहर निकाल लिया था। उनका विकास और ब्लड फ्लो में रुकावट हो सकती थी। पूरी प्रक्रिया लूर्डेस हॉस्पिटल में डॉक्टर दिव्या जोस के निगरानी में हुई।

इस बच्चे का नाम जाया रखा गया था जो अपनी जुड़वा बहन जोया के साथ पैदा हुआ था। इन बच्चों के माता-पिता का नाम थानीम और ज़ुवैना है जो कोडुंगलुर के रहने वाले हैं। पत्नी ज़ुवैना जब 6 माह की गर्भवती थी तभी से अस्पताल में भर्ती हुई थी क्योंकि उसके प्रेगनेंसी में हाइपरटेंशन की समस्या थी।

पहला बच्चा है जोया 400 ग्राम की पैदा हुई थी जबकि जाया 350 ग्राम का ही पैदा हुआ था। शुरू से इन दोनों बच्चों को वेंटिलेटर पर रखा गया था। 40 दिन तक NICU में रखकर देख-रेख की गई थी। जब यह बच्चे खुद से सांस लेने के काबिल हो गए तब तक इन्हें हॉस्पिटल में रखा गया था।

लगातार 4 महीने डॉक्टरों की देख-रेख में रहे जुड़वा बच्चे पूरी तरह स्वस्थ हैं वही जोया का वजन 400 ग्राम से 2 किलो हो चुका है जबकि जाया 350 ग्राम डेढ़ किलो तक पहुंच गया है डॉ दिव्या जोस इन्हें घर जाने के लिए छुट्टी दे दी है।

Check Also

शादी करके जिसे पति लाया घर, सुहागरात में वो निकला एक मर्द, सच्चाई जानकर चौंक गए सब

एक चौकाने वाली घटना सामने आई जिसमे सभी के होश उड़ गए। घटना इंडोनेशिया की …