विधवा और तलाकशुदा महिलाएं भी, सेरोगेसी की मदद से बन सकेंगी मां, स्मृति ईरानी ने दी जानकारी

संतान के लिए परेशान लोगो के लिए वरदान कहलाने वाली सेरोगेसी इन दिनों काफी चर्चा में है। इस के दवारा आज कल फिल्म अभिनेता भी मां बाप का सुख प्राप्त कर रहे हैं, कुछ दिन पहले ही अबहिंरति शिल्पा शेट्टी भी सेरोगेसी के जरिए मां बनी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बुधवार को सेरोगेसी पर केंद्रीय केबीनेट दवारा एक बड़ा फैंसला लिया गया है। दरअसल केंद्रीय केबीनेट ने Assisted Reproductive technology ( regulation) bill को मंजूरी दी और इस मंजूरी के बाद अब ये लोकसभा और राज्य सभा में जाएगा और अंत में राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने के बाद ये कानून में तब्दील कर दिया जाएगा।

सरोगेसी रेगुलेशन बिल 2020 में कुछ बदलाव किए हैं और इस प्रस्तावित बिल के अनुसार-
– कोई भी महिला अपनी इच्छा से सरोगेट मां बन सकेगी
– विधवा और तलाकशुदा महिलाओं को भी इसका फायदा मिलेगा
– सिर्फ भारतीय जोड़े ही देश में सरोगेसी के जरिए संतान प्राप्त कर पाएंगे
– इस बिल के तहत दोनों माता-पिता का भारतीय होना जरूरी

इस बिल के अनुसार क्या होगा नया-
– नेशनल सरोगेसी बोर्ड और राज्यों में स्टेट सरोगेसी बोर्ड बनाए जाएंगे
– कोई भी विदेशी व्यक्ति भारत में सरोगेसी के जरिए बच्चे पैदा नहीं कर सकेगा
– भारतीय विवाहित जोड़े, विदेश में रहने वाले भारतीय मूल के विवाहित जोड़े इसका फायदा उठा सकेंगें
– अकेली भारतीय महिलाएं कुछ शर्तों के अधीन सरोगेसी का फायदा उठा सकेंगी
– अकेली महिलाओं की स्थिति में उनका विधवा या तलाकशुदा होना जरूरी होगा और उनकी उम्र 35 से 45 साल के बीच होनी चाहिए।

पुराने बिल में बदलाव-
– पुराने बिल के अनुसार इसमें केवल नजदीकी रिश्तेदार महिला को ही सरोगेट मदर बनने की इजाजत मिली हुई थी जिसकी लोगों ने काफी आलोचना भी की थी। इस बिल को लाने का कारण ये है कि इससे तकनीकों का गलत इस्तेमाल न हो, स्मृति ईरानी ने कैबिनेट की मंजूरी के बाद ट्वीट भी किया था।

Check Also

महिलाओं का शरीर बच्चेदानी खराब होने से पहले, देता है ये 3 संकेत..

आज की इस भागदौड़ वाली लाइफ में बच्चेदानी ख़राब होने की समस्या महिलाओं में तेजी …