योगी सरकार ने गायों की देखभाल के लिए गोशाला को दिए 2.5 लाख रुपये, फिर भी 78 गायें गई मर

उत्तर प्रदेश: योगी सरकार जिस तरह से गोरक्षा को लेकर अडिग है। लेकिन वही जमीनी हकीकत कुछ और कहती है। टेलीग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार, 26 दिसंबर से लेकर 30 दिसंबर 2018 के बीच एक गोशाला में 78 गायों की मौत हो गई। जट्टारी स्थित ‘श्याम पुरुषोत्तम गोशाला’ को गायों की देखभाल के लिए योगी सरकार ने 2.5 लाख रुपये दिए गए थे। लेकिन कुछ ही दिनों में 78 गायों की मौत हो गई। ‘श्याम पुरुषोत्तम गोशाला’ एक स्वयं सेवी संस्था द्वारा चलाया जाता है। गोशाला को पैसे मिलने की पुष्टि खुद अधिकारी कर चुके है।

गायों की मौत का ये पहला मामला नहीं है। इससे पहले मथुरा के एक गांव में फसल बर्बाद होने से परेशान किसानो से 150 आवारा पशुओं को एक स्कूल में बंद कर दिया था। जिसके चलते 6 गायों की मौत हो गई थी। वही पंचायत प्रमुख और तहसील के राजस्व अधिकारी ने यह बात मानी थी की गायो की मौत भूख और प्यास के कारण से हुई है। इन्हे बस बंद कर दिया गया था न इनको खाना दिया गया और ना ही पानी जिसके चलते इनकी मौत हो गयी थी। गौरतलब है की इन दोनों मामलो में अभी तक किसी के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया गया है।

वही श्याम पुरुषोत्तम गोशाला के सेक्रेटरी शिवदत्त शर्मा ने 78 गायों की मौत उनके बीमार होने की वजह बताई है। शिवदत्त शर्मा का कहना है की जिन भी गायो की मौत हुयी है उन्हें बीमार हाल में ही गोशाला लाया गया था। और साथ ही ठंड की चपेट में आने से इनकी मौत हो गयी है। वहीं अलीगढ़ प्रशासन का कहना है की कमजोर हालत में गायों को कई गांवों से लाया गया था। कई गावों में तो लोग अपनी फसल बचाने के लिए आवारा पशुओं को स्कूल, कॉलेज और स्वास्थ समुदाय में बंद करके रखा था।

गौरतलब है कि आवारा पशुओं से किसानों की फसलें बर्बाद हो रही हैं। जिससे परेशान किसानो ने इन्हें किसी बाड़े या सरकारी स्कूलों में बंद करना शुरू कर दिया है। जिससे कि बिना खाना और पानी के चलते इनकी मौत हो रही है।

Check Also

महामारी में राशन, दवा और दूसरी तरह की सहायता का मानक केवल गरीबी नहीं है- पीपुल्स एलायंस’

आजमगढ़ 1 अप्रैल 2020। कई तरह की दिक्कतों के चलते बहुत से लोग अपना पैसा …