योगी सरकार ने विवेक की पत्‍नी को दी नौकरी- जाँच के लिए एसआईटी गठित

लखनऊ: लखनऊ में पुलिस कॉन्स्टेबल द्वारा मारे गए एप्पल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी के परिवार की मांगें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मान ली है। न्यूज़ एजेंसी ANI से लखनऊ जिले के डीएम कौशल किशारे शर्मा ने बताया की उत्तर प्रदेश सरकार मृतक के परिवार वालों की शर्ते मान ली है। जिसमे एप्पल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी की पत्नी को नगर निगम में नौकरी दी जाएगी। और मुआवजे के तौर पर 25 लाख रुपये भी दिए जाएंगे। अगर विवेक के परिवार वाले सीबीआई जांच की मांग करते हैं तो वो भी कराई जाएगी। जो 30 दिनों के भीतर पूरा करने का लिखित आश्वासन दिया गया है।

न्यूज़ एजेंसी ANI से बात करते हुये लखनऊ जिले के डीएम कौशल किशारे शर्मा ने बताया की, प्रशासन ने उनकी सारी शर्ते मान ली है और उन्हें माँग पत्र लिखित में भी दे दिया गया है। अगर एप्पल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी के परिवार वाले सीबीआई जांच की मांग करते हैं तो वो भी कराई जाएगी। उन्होंने बताया की लिखित पत्र में विवेक तिवारी की पत्नी को नगर निगम में नौकरी तथा 25 लाख रुपये मुआवजे के तौर पर दिए जायेंगे।

वही इस मामले में एप्पल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी के भाई ने न्यूज़ एजेंसी ANI को बताया की, हमने सरक़ार के सामने तीन शर्ते रखी थी। जिसमे जांच के लिए एसआईटी गठित की जाए और विवेक की पत्नी को सरकारी नौकरी मिले तथा मुआवजा दिया जाए। उन्होंने आगे कहा की यहाँ हम लोग मुख्यमंत्री के आने का इंतज़ार कर रहे है। नहीं आने पर अपने भाई विवेक की बॉडी अपने घर ले जाएंगे।

इस मामले में उत्तर प्रदेश के एडीजी (लॉ एंड आॅर्डर) आनंद कुमार ने न्यूज़ एजेंसी ANI से बताया की, इस मामले में उत्तर प्रदेश के DGP ओम प्रकाश सिंह ने एसआईटी गठित करने का आदेश दिया है। इस जाँच में एसपी क्राइम और एसपी ग्रामीण लखनऊ टीम के अन्य सदस्य होंगे। टीम जल्द से जल्द इस मामले में अपनी रिपोर्ट देगी।

आपको बतादे की लखनऊ के गोमतीनगर विस्तार में शुक्रवार देर रात करीब 2 बजे मकदूमपुर पुलिस चौकी के पास दो सिपाहियों में से एक ने काले रंग की महिंद्रा एक्सयूवी 500 में सवार एप्पल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी को गोली मार दी थी। दोनों सिपाहियों के खिलाफ IPC की धारा 302 के तहत केस दर्ज किया गया है। और साथ ही उन्हें बर्खास्त करने के आदेश भी दिए गए हैं। वही इस मामले में उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री आशुतोष टंडन ने न्यूज़ एजेंसी ANI को बताया की, इस मामले में दोबारा FIR ​दर्ज करने के आदेश दिए गए हैं। उन्होंने कहा की इस मामले में गोमती नगर पुलिस जांच नहीं करेगी। बल्कि कोई अन्य पुलिस स्टेशन जांच करेगा।

Check Also

251 रुपए में मोबाइल के नाम पर अरबों की ठगी करने वाला मोहित गोयल गिरफ्तार, अब कर रहा था ये धंधा

साल 2015 में केवल 251 रुपये में एंड्रॉयड फोन देने का वादा करने वाली कंपनी …