आपको भी दुःख होगा महिला की कहानी जानकर, शादी के 50 दिन बाद ही हो गई विधवा, अब मांग रही इंसाफ …

भारत में कई जगह से मॉब लिंचिग के कई मामले सामने आये हैं, झूठी अफवाहों के चलते भीड़ ने न जाने कितनों को मौत के घाट उतार दिया तो कइयों को घायल कर दिया। एक ऐसा ही मामला 17 जून 2019 को सामने आया था। जब भीड़ ने बाइक चोरी के शक में रांची के तबरेज अंसारी को बुरी तरह पीटा था। जिसके बाद पांच दिन बाद के इलाज के बाद उसकी तबेरज की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई थी। अपने पति की हत्या के 9 महीने बाद अब मृतक की पत्नी शाइस्ता परवीन ने सरकार से इंसाफ और सरकारी नौकरी की मांग की है।

दरअसल, बुधवार को तबरेज अंसारी की पत्नी शाइस्ता परवीन अपने क्षेत्र के विधायक कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी के साथ विधानसभा पहंची थी। जहां महिला ने सदन में राज्य मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और सभी मंत्रियों के सामने न्याय की मांग की। इसके साथ ही विधायक इरफान ने सदन में चर्चा करते हुए कहा- माननीय मुख्यमंत्री तबरेज की मौत को एक साल होने वाला है। लेकिन उसको परिजनों को अभी तक इंसाफ नहीं मिला है।

पीड़िता शाइस्ता परवीन ने सरकार से कहा-मेरे पास अब इतने रुपए भी नहीं हैं कि मैं अपनी पति की हत्या का केस लड़ सकूं और हत्यारों को सजा करवा सकूं। इसलिए मेरी सीएम से विनती है कि आप मेरी मदद करें। शाइस्ता परवीन अपना दर्द बयां करते-करते रोने लगी। कहा-सर मेरी शादी को महज 54 दिन हुए थे और भीड़ ने मेरे पति को पीट-पीटकर मार डाला। मैं अपना पेट पालने और उनको न्याय दिलाने के लिए दर-दर भटक रहीं हूं।

पीड़िता शाइस्ता ने कहा कि हेमंत सरकार मुझे सरकारी नौकरी दे और केस लड़ने के लिए आर्थिक मदद भी करे। साथ ही सख्त करवाई कर आरोपियों को गिरफ्तार करे। आपको बता दें कि 17 जून को सरायकेला के धातकीडीह गांव में चोरी के आरोप में ग्रामीणों ने तबरेज अंसारी की रातभर पीटा था। जिसके बाद स्थानीय प्रशासन ने उसको अस्पताल में भर्ती करवा दिया था। लेकिन घटना के पांच दिन बाद ही तबरेज की मौत हो गई थी। इस मामले में कई तरह के आरोप भी सामने आए थे। वहीं एसपी और प्रशासन का इस मामले पर कहना है कि तबरेज की मौत दिल के दौरे की वजह से हुई थी और ना कि पीटने की वजह से। इस घटना में 11 लोगों को आरोपी बनाया गया था। हालांकि बाद में सबूत नहीं मिलने पर उनको छोड़ दिया गया।

इस घटना में 11 लोगों को आरोपी बनाया गया था। हालांकि बाद में सबूत नहीं मिलने पर उनको छोड़ दिया था। मृतक तबरेज अंसारी और शाइस्ता परवीन का निकाह 27 अप्रैल को हुआ था। परिवारवालों के मुताबिक निकाह से पहले तबरेज पुणे से गांव आया था। वह ईद मनाने के लिए रुक गया था, लेकिन उससे पहले उसकी मौत हो गई।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …