सड़क चलते बेहोश होकर गिरा युवक, कोरोना वायरस की दहशत के कारण किसी ने नहीं की मदद, फिर 55 मिनट बाद आई एंबुलेंस

मामला गुरुग्राम का है, यहां राजीव चौक से झाड़सा चौक के बीच बने पेट्रोल पंप के पास एक युवक पैदल चलते हुए बेहोश होकर सड़क पर गिर गया। जिसकी जानकारी पुलिस व सिविल सर्जन को दी गई। कोरोना के खतरे के कारण कोई भी युवक की मदद के लिए आगे नहीं आया। हैरत की बात यह है कि पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना देने के 25 मिनट बाद भी कोई भी सहायता नहीं मिल पाई थी।

एंबुलेंस कंट्रोल रूम 108 पर कई फोन करने के बाद भी फोन नहीं मिला। सिविल सर्जन जे एस पुनिया को इसकी जानकारी देने के काफी देर बाद तक कोई मदद नहीं मिल पाई। करीब 40 मिनट तक अमर उजाला के दो पत्रकारों ने सीएमओ, डीसी, पुलिस कंट्रोल रूम को कॉल किया। फिर 40 मिनट बाद एंबुलेस कंट्रोल रूम से फोन आया कि एंबुलेस भेजी जा रही हैं।

आपको बता दें कि इन दिनों दुनियाभर में कोरोना वायरस की दहशत है, जिसकी वजह से कोई भी व्यक्ति बेहोश व्यक्ति को हाथ लगाने को तैयार नहीं था। पास से ही गुजर रही क्लाउड 9 अस्पताल की एंबुलेंस को रुकवाने का प्रयास किया, लेकिन चालक ने मरीज को ले जाने से मना कर दिया। व्यक्ति की हालत देखते हुए लग रहा था कि वह अस्पताल में भर्ती था। उसकी बाजू पर खून समेत कॉटन व निडिल के निशान थे।

व्यक्ति की पहचान दिल बहादुर मूल रूप से नेपाल निवासी के रूप में की गई। जोकि रेवाड़ी से गुरुग्राम तक पैदल आ गया था। यहां उसकी हालत खराब होने के कारण बेहोश हो गया। आरएसओ मोहित शर्मा मौके पर पहुंच कर बेहोश हुए व्यक्ति को प्राथमिक उपचार देकर होश में लाए। 55 मिनट में एंबुलेस मौके पर पहुंची तो दिल बहादुर को अस्पताल ले जाया गया।

Check Also

यहाँ पुलिस ‘कोरोना हेलमेट’ पहनकर लोगों को घर में रहने की दे रही सलाह

तमिलनाडु: पूरी दुनिया कोरोना वायरस महामारी से डरी हुई है। वही भारत में पुरे 21 …